दिसंबर तक पीएफ पर इतना कम देगी ब्याज, यह सबसे बड़ी वजह

|

Updated: 20 Sep 2020, 07:33 PM IST

  • सरकार पीएफ पर 0.35 फीसदी ब्याज दर कम देगी, शेयर बाजार में सरकार लगाएगी रुपया
  • मौजूदा समय में 8.50 फीसदी दे रही है पीएफ पर ब्याज, दिसंबर तक मिलेगा 8.15 फीसदी ब्याज

नई दिल्ली। कोरोना काल में सभी को रुपयों की सख्त जरुरत है। इसके लिए नौकरीपेशा लोग ईपीएफ की ओर नजर गढ़ाए हुए हैं। लाखों करोड़ रुपया ईपीएफ से निकल चुका है। खास बात तो ये है कि सरकार ईपीएफ ब्याज 8.5 फीसदी ब्याज का भुगतान दे रहा है। जो कि 6 साल में सबसे कम है। इसमें भी अब सरकार की ओर से कैंची चला दी गई है। अब सरकार ने फैसला किया है कि वो दिसंबर महीने तक 8.15 फीसदी ब्याज देगी। बाकी 0.35 फीसदी का भुगतान किया जाएगा। आखिर सरकार की ओर से ऐसा क्यों किया? आइए आपको भी बताते हैं।

यह भी पढ़ेंः- किसान बिल को लेकर सरकार ने की सभी से अपील, गलत जानकारियों से ना हों गुमराह

यह है सबसे बड़ी वजह
यह बात किसी से छिपी नहीं है ईपीएफ का रुपया शेयर बाजार में लगाया जाता है। यह रुपया सरकारी सिक्योरिटीज, डेट इंस्ट्रुमेंट और शेयर बाजार में लगाया जाता है। कोरोना वायरस की वजह से शेयर बाजार पर काफी बुरा असर देखने को मिला है। जिसकी वजह से सरकार की ओर से ईपीएफ का रुपया भी शेयर बाजार में डूबा है। जिसकी वजह से सरकार 0.35 फीसदी ब्याज का भुगतान दिसंबर में करने का फैसला लिया गया हैै। सरकार एक बार फिर से शेयर बाजार के बूस्ट होने का वेट कर रही है। ताकि बेहतर रिटर्न पाया जा सके। सरकार को उम्मीद है कि वो इक्विटी से बेहतर रिटर्न मिल सकता है।

यह भी पढ़ेंः- किस अमरीकी पार्टी की सत्ता में मिला है निवेशकों को बाजार से बेहतर रिटर्न, जानिए पूरी सच्चाई

बाजार में कितना रुपया लगाती है सरकार
- सरकार ईपीएफ के पैसे शेयर बाजार में मौजूदा समय में करीब 15 फीसदी तक लगा सकती है।
- पहले सरकार कम पैसे शेयर बाजार में लगाती थी।
- 2015-16 में ईपीएफ का कुल 5 फीसदी यानी 6578 करोड़ रुपए शेयर बाजार में लगाए थे।
- 2016-17 में ये आंकड़ा बढ़कर 10 फीसदी यानी 14,981 करोड़ रुपए हो गया।
-2017-18 में 15 फीसदी यानी 24,970 करोड़ रुपए शेयर बाजार में निवेश किया।
- 2018-19 में सरकार ने 15 फीसदी यानी 27,974 करोड़ रुपए शेयर बाजार में लगाया।
- 2019-20 के निवेश की घोषणा अभी सरकार ने नहीं की है।

यह भी पढ़ेंः- ऑरेकल-वॉलमार्ट के प्रपोजल से अमरीका में TikTok को मिला 7 दिन का जीवनदान, जानिए क्या है पूरा मामला

बीते 6 सालों में सबसे कम ब्याज दर
- मौजूदा समय में ईपीएफ पर दिया जा रहा 8.50 फीसदी का ब्याज।
- मौजूदा समय में ईपीएफ में ब्याज दर पिछले 6 सालों में सबसे कम।
- प्रोविडेंट फंड पर 2014-15 में 8.75 फीसदी ब्याज दिया गया।
- वित्त वर्ष 2015-16 में 8.80 फीसदी ब्याज दिया गया।
- 2016-17 में 8.65 फीसदी पीएफ पर ब्याज दर लागू किया गया।
- 2017-18 में 8.55 फीसदी ब्याज दिया गया।
- 2018-19 में 8.65 फीसदी ब्याज दर लागू किया गया है।
- इस बार 2019-20 में 8.50 फीसदी का ब्याज दिया है।