अपने बच्चों को Financially Secure करने के लिए उठाएं यह पांच जरूरी कदम

|

Updated: 23 Sep 2020, 01:53 PM IST

  • अपने बच्चे जरुरतों और खर्चों को करें कैल्कुलेट, लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस के बारे में सोचें
  • जरुरत पडऩे पर लें वित्तीय सलाहकार की मदद, भविष्य में बढऩे वाली महंगाई को रखें ध्यान

नई दिल्ली। मौजूदा कोरोना काल में करीब तीन के महीने के लॉकडाउन के दौरान सैलरीड और बिजनेसमैन दोनों ही क्लास के लोगों को यह सोचने पर जरूर मजबूर किया होगा कि अपने फ्यूचर को कैसे सिक्योर किया जाए। खासकर उन लोगों को जिनके बच्चे अभी छोटे हैं या फिर फैमिली बढ़ाने की प्लानिंग कर रहे हैं। तो वो अपने बच्चे के फ्यूचर को कैसे सिक्योर कर सकते हैं, ताकि जिस तरह की समस्याएं उन्होंने इस कोविड काल में फेस की है, ऐसी समस्या से रूबरू उनके बच्चे किसी भी फाइनेंशियल क्राइसिस के दौरान ना हों। इसका दबाव बच्चों पर तब और बढ़ जाता है जब बच्चों के पेरेंट्स फाइनेंशियल सिक्योर किए बिना दुनिया छोड़कर चले जाते हैं। आज हम आपको ऐसे ही पांच बातों के बारे में बताने जा रहे हैं कि जिनको अपनाने से आप अपने बच्चे को फ्यूचर के लिए फाइनेंशियल सिक्योर कर सकते हैं।

बच्चे की जरूरतों और खर्चों की गणना करें
बेशक, पहला कदम वित्तीय सहायता और देखभाल का अनुमान लगाना है कि बच्चे को एक वयस्क के रूप में आवश्यकता होगी। इसमें नियमित चिकित्सा व्यय, चिकित्सा उपकरण, साथ ही सहायक या एक प्रशिक्षित सहायक की सेवाएं शामिल होनी चाहिए, जिनकी उसे आवश्यकता हो सकती है। मुद्रास्फीति में कारक और उसके बाद भविष्य में होने वाले खर्चों की गणना करना भी काफी जरूरी है। आपको न केवल एक कोष बनाने या उसके लिए एक ट्रस्ट स्थापित करने, बल्कि अपने लिए एक बजट बनाने के लिए भी इस मूल्य की आवश्यकता होगी ताकि आप यह जान सकें कि जब तक आप बच्चे की देखभाल कर रहे हैं, तब तक आप कितना खर्च कर सकते हैं। सही आंकड़े पर पहुंचने के लिए वित्तीय सलाहकार और चिकित्सा विशेषज्ञ की मदद लेने में कोई हर्ज नहीं है।

अभिभावक नियुक्त करें
यह एक महत्वपूर्ण कदम है क्योंकि आपको उस व्यक्ति की पहचान करने की आवश्यकता है, जिसे आप जानते हैं कि आपकी अनुपस्थिति में उसका आर्थिक शोषण किए बिना बच्चे की जरूरतों का ख्याल रखा जाएगा। यह परिवार या दोस्तों में से हो सकता है, लेकिन ऐसा कोई व्यक्ति होना चाहिए, जो आपको या आपके माता-पिता के रूप में बूढ़ा न हो। आप चिकित्सा या वित्तीय जैसी विशिष्ट आवश्यकताओं की देखभाल के लिए पार्शियल गार्जियन को भी नियुक्त कर सकते हैं। कानूनी अभिभावक नियुक्त करने और उसी के लिए एक समझौते का मसौदा तैयार करते समय एक वकील की मदद लेना बेहतर होगा।

एक ट्रस्ट स्थापित करें
अगला महत्वपूर्ण कदम एक ट्रस्ट स्थापित करना है, जो आपके बच्चे की वित्तीय संपत्तियों की रक्षा करेगा। आप अपनी इच्छानुसार किसी भी संपत्ति को डाल सकते हैं, जिसमें धन, संपत्ति, इक्विटी या आभूषण शामिल हैं, जब भी आपके पास यह हो। हालांकि, एक अभिभावक के मामले में, एक ट्रस्टी की नियुक्ति एक मुश्किल प्रक्रिया होगी क्योंकि आपको एक ऐसे व्यक्ति को ढूंढना होगा, जिसके दिल में बच्चे के लिए सर्वोत्तम हित हों। यदि आप एक उपयुक्त व्यक्ति को खोजने में असमर्थ हैं, तो आप एक संस्था भी नियुक्त कर सकते हैं, जो कोई बैंक भी हो सकता है। इस प्रोसेस को फुलप्रूफ करने के लिए वकील की भी मदद ले सकते हैं।

जीवन और स्वास्थ्य बीमा खरीदें
अभिभावकों को सुनिश्चित राशि में शामिल बच्चे की वित्तीय जरूरतों के साथ एक टर्म प्लान खरीदना चाहिए, क्योंकि आय माता-पिता की मृत्यु के बाद ट्रस्ट में जा सकती है। संपूर्ण जीवन अवधि बीमा प्राप्त करना भी एक अच्छा विचार हो सकता है। हालांकि यह आसान नहीं होता है कि बच्चे को उसकी चिकित्सीय स्थिति के लिए स्वास्थ्य योजना मिल जाए, लेकिन अगर यह बुनियादी स्वास्थ्य बीमा है तो भी उसे पाने की कोशिश करें। यदि यह संभव नहीं है, तो मुद्रास्फीति और उसकी चिकित्सा आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए एक बफर का निर्माण करें।

वसीयत बनाएं
जितनी जल्दी हो सके, एक वसीयत तैयार करें, भले ही आप युवा ही क्यों ना हों और वकील की मदद से ऐसा करें। उन सभी संपत्तियों की सूची बनाएं जिन्हें आप बच्चे के लिए ट्रस्ट में छोडऩा चाहते हैं। उन अभिभावकों और ट्रस्टियों का उल्लेख करें जिन्हें आप बच्चे के लिए नियुक्त कर रहे हैं और उनकी जिम्मेदारियों को भी सूचीबद्ध करें। प्रत्येक अस्पष्टता को दूर करें और बच्चे के अधिकारों और हितों की रक्षा के लिए स्पष्ट रूप से अपनी वसीयत में उल्लेख करें।