डाकघर में जमा पर भी मिलता है बंपर रिटर्न, आप भी कर सकते हैं निवेश

|

Updated: 28 Apr 2019, 03:16 PM IST

1/5

पोस्ट ऑफिस भी अपने ग्राहकों के लिए नई-नई योजनाएं लेकर आता रहता है और निवेशकों को समय-समय पर फायदा पहुंचाता है। निवेशकों को कई तरह के डिपॉजिट ऑफर करता है। कुछ स्कीम्स में आयकर एक्ट के सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट का भी फायदा उठाया जा सकता है। पोस्ट ऑफिस की इऩ स्कीमों में आप अच्छा फायदा उठा सकते हैं। इन स्कीम्स के इंट्रेस्ट रेट की सरकार हर तीन महीने पर समीक्षा करती है और उन्हें नए सिरे से तय करती है। पोस्ट ऑफिस की ब्याज दरों में समय-समय पर बढ़ोतरी होती रहती है। आइए आपको बताते हैं पोस्ट ऑफिस में पैसा लगाने के फायदे-

नई दिल्ली। पोस्ट ऑफिस भी अपने ग्राहकों के लिए नई-नई योजनाएं लेकर आता रहता है और निवेशकों को समय-समय पर फायदा पहुंचाता है। निवेशकों को कई तरह के डिपॉजिट ऑफर करता है। कुछ स्कीम्स में आयकर एक्ट के सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट का भी फायदा उठाया जा सकता है। पोस्ट ऑफिस की इऩ स्कीमों में आप अच्छा फायदा उठा सकते हैं। इन स्कीम्स के इंट्रेस्ट रेट की सरकार हर तीन महीने पर समीक्षा करती है और उन्हें नए सिरे से तय करती है। पोस्ट ऑफिस की ब्याज दरों में समय-समय पर बढ़ोतरी होती रहती है। आइए आपको बताते हैं पोस्ट ऑफिस में पैसा लगाने के फायदे-

केंद्र सरकार की बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना के तहत लॉन्च की गई यह स्कीम गर्ल चाइल्ड के लिहाज से बेहतरीन विकल्प है। यदि आपकी बेटी की उम्र 10 साल से कम है, तो आप अपनी बेटी के लिए यह खाता खोल सकते हैं। यह अकाउंट आपकी बेटी के 21 वर्ष का होने पर मैच्योर होगा।

नियमित इंट्रेस्ट इनकम के लिए 60 साल या उससे अधिक आयु के लोग इस स्कीम में निवेश कर सकते हैं। इसमें पांच साल का लॉक-इन पीरियड होता है और जमा पर ब्याज का भुगतान हर तीन महीने पर किया जाता है।

एनएससी में पांच साल का लॉक-इन पीरियड होता है। इस स्कीम के तहत भी 80सी के तहत टैक्स छूट का फायदा उठाया जा सकता है। इसमें इंट्रेस्ट का भुगतान नहीं किया जाता, बल्कि उसे फिर से निवेश कर दिया जाता है।

पीपीएफ में भी निवेश की गई रकम, इंट्रेस्ट से हुई आय और मैच्योरिटी का अमाउंट तीनों टैक्स फ्री हैं। इसमें 15 साल का लॉक-इन पीरियड है, लेकिन सातवें साल से आंशिक निकासी की जा सकती है।