LIC Foundation Day पर जारी हुए आंकड़े, 2019-20 में बेची रिकॉर्ड 2 करोड़ से ज्यादा New Policies

|

Published: 01 Sep 2020, 11:07 AM IST

  • वित्त वर्ष 2019-20 में LIC ने बेची रिकॉर्ड 2.19 करोड़ New Policies, मिला 1.78 लाख करोड़ रुपए का प्रीमियम
  • 1956 में 5 करोड़ रुपए के निवेश से शुरू हुई थी LIC, आज कंपनी का Asset Base हैं 32 लाख करोड़ रुपए

नई दिल्ली। भारतीय जीवन बीमा निगम ( Life Insurance Corporation of India ) देश का सबसे ज्यादा विश्वसनीय संस्थान। जिसे देश में स्थापित हुए आज 64 साल हो गए हैं, लेकिन आम लोगों के विश्वास में लगातार बढ़ोतरी ही हुई है। इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि वित्त वर्ष 2019-20 में एलआईसी ( LIC Foundation Day ) ने 2 करोड़ से ज्यादा पॉलिसी बेची हैं, जो कि बीते 6 साल में सबसे ज्यादा है। खास बात तो ये है कि नए कारोबार के तौर के आधार पर एलआईसी ने 25 फीसदी का इजाफा किया है। शायद ही आपको पता होगा कि एलआईसी की शुरुआत सिर्फ 5 करोड़ रुपए से हुई थी। आज कई उतार चढ़ावों के बाद कई लाख करोड़ रुपए की कंपनी बन चुकी है। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर एलआईसी की ओर से किस तरह के आंकड़े जारी हुए हैं और इसके स्थापना कब और कैसे हुई थी?

यह भी पढ़ेंः- लगातार दूसरे महीने में आम लोगों को राहत, जानिए कितने हुए LPG Gas Cylinder के दाम

2 करोड़ से ज्यादा नई पॉलिसी
देश की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी एलआईसी को स्थापित हुए 64 साल पूरे हो गए हैं और 65 वें वर्ष में प्रवेश कर लिया है। इस दौरान कंपनी की ओर से आंकड़े जारी किए गए हैं वो बेहद चौंकाने वाले हैं। एलआईसी ने वित्त वर्ष 2019-20 में रिकॉर्ड 2.19 करोड़ नई बीमा पॉलिसी बेची। जो कि पिछले छह साल में सबसे ज्यादा है। कंपनी की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार 2019-20 के दौरान उसने नई पॉलिसी पर प्राप्त होने वाले प्रीमियम के आधार पर 'नए कारोबार' में 25.17 फीसदी की तेजी देखने को मिली है। 31 मार्च 2020 तक कंपनी को इसमें 1.78 लाख करोड़ रुपए का नया प्रीमियम मिला है। कंपनी की बाजार हिस्सेदारी 68.74 फीसदी देखने को मिली है।

5 करोड़ से 32 लाख करोड़ तक का सफर
जब कंपनी की शुरुआत 1956 में हुई थी तो निवेश सिर्फ 5 करोड़ रुपए का था। मौजूदा समय में एलआईसी का एसेट बेस करीब 32 लाख करोड़ रुपए का हो चुका है। इस दौरान कंपनी की ओर से कुल 159,770.32 करोड़ रुपए का क्लेम सेटलमेंट भुगतान किया। जबकि कुल 215.98 लाख दावों का सेटलमेंट किया गया। कंपनी को आगे बढ़ाने में उसकी कई सब्सिडियरी का भी योगदान देखने को मिला। जिसमें एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस, एलआईसी पेंशन फंड, एलआईसी म्यूचुअल फंड, एलआईसी कार्ड सर्विसेस, आईडीबीआई बैंक, एलआईसी एचएफएल केयर होम आदि प्रमुख हैं।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Price में मामूली इजाफा, 6 महीने के उच्चतम स्तर पर Crude Oil Price

एक लाख से ज्यादा लोगों को देता है रोजगार
एलआईसी के पास 8 जोनल कार्यालय, 113 विभागीय कार्यालय, 74 कस्टमर जोन, 2048 शाखाएं, 1,526 सेटेलाइट ऑफिस, 3,354 लाइफ प्लस ऑफिस और 31,556 प्रीमियम प्वाइंट्स हैं। कंपनी में एक लाख से ज्यादा लोगों का रोजगार चलता है। एलआईसी के 12.08 लाख एजेंट हैं और 28.92 करोड़ से ज्यादा पॉलिसीज हैं। अगर भारतीय बाजार की लिस्टेड कंपनियों का वैल्यूएशन देखें तो 152 लाख करोड़ रुपए की तुलना में एलआईसी ने करीबन इसका पांचवां हिस्सा निवेश किया है।