Lapsed LIC Policy Revival Plan : दो महीने में फिर से शुरू करा सकते हैं अपनी बंद हो चुकी पॉलिसी

|

Updated: 10 Aug 2020, 09:16 AM IST

  • LIC Revival Plan आज 10 अगस्त से 9 अक्टूबर यानी दो महीने तक चलेगा
  • Late Fees में LIC दे रही है 20 फीसदी से लेकर 30 फीसदी तक की छूट

नई दिल्ली। कोरोना काल में एलआईसी ( LIC ) की ओर से उन पॉलिसीधारकों ( Policy Holders ) को खास तोहफा दिया है, जिन्होंने रुपयों की किल्लत की वजह से प्रीमिसयम ( LIC Premium ) नहीं भरा और बीच में अपनी पॉलिसी को छोड़ दिया। अब ऐसे पॉलिसी धारक अपनी बंद पॉलिसी को वहीं से शुरू करा सकते हैं जहां उन्होंने छोड़ी थी। इसमें एलआईसी की ओर से कुछ शर्तें रखी हैं। खास बात तो ये है एलआईसी ने Lapsed LIC Policy Revival Plan के तहत 10 अगस्त यानी आज से 9 अक्टूबर तक का समय दिया है। वहीं लेट फीस ( Late Fees ) में भी 20 फीसदी से 30 फीसदी तक की छूट की घोषणा की है। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर एलआईसी की ओर से क्या कहा गया है।

यह भी पढ़ेंः- Monsoon में Green Vegetables दाम में आग, फूलगोभी, आलू और शिमला मिर्च हो गए हैं इतने हो गए हैं दाम

आखिर क्या है एलआईसी की शर्त
- इस प्लान के तहत विशेष योग्यता प्लान वाली पॉलिसी को ही रिवाइव किया जा सकता है।
- उन्हीं पॉलिसी को रिवाइव किया जाएगा जो प्रीमियम भरने की तारीख से 5 साल के अंदर की होंगी।
- उन्हीं पॉलिसी को रिवाइव किया जाएगा जो प्रीमियम पेमेंट टर्म की स्थिति में लैप्स हुई हैं न कि कम्प्लीटेड पॉलिसी टर्म में।
- इसमें उन पॉलिसीहोल्डर्स को लाभ मिलेगा जो कुछ मजबूरियों की वजह से अपना प्रीमियम नहीं भर पाए और पॉलिसी लैप्स हो गई।

यह भी पढ़ेंः- Swamitva Scheme : अब गांव के मकान पर बैंक से मिल जाएगा बिना रुकावट के कर्ज

20 से 30 फीसदी की छूट
- पॉलिसीधारकों को प्रीमियम लेट फीस पर छूट भी दी गई है जोकि 20 से 30 फीसदी तक की है। ष्
- 1 लाख रुपए से लेकर 3 लाख रुपए के बीच के लेट फीस के लिए 25 फीसदी की छूट होगी।
- 3 लाख रुपए से अधिक के लेट फीस पर 30 फीसदी की छूट दी जाएगी।

यह भी पढ़ेंः- Ril-Future Deal : किशोर बियानी के निजी कर्ज की वजह से फंसा है पूरा मामला

बेहतर है पुरानी पॉलिसी रिवाइव कराना
एलआईसी के अनुसार किसर नई पॉलिसी को खरीदने से बेहतर है पुरानी पॉलिसी को रिवाइव कराना। इस कदम से पॉलिसी की इंश्योरेंस कवर रिस्टोर होती है। ऐसा करने से कस्टमर को डेथ बेनिफिट्स भी मिलेगा। इसका मतलब यह हुआ कि पॉलिसीधारक की किसी वजह से अचानक मौत हो जाती है तो नॉमिनी को रुपया मिलेगा। प्रीमियम ना जमा करने की वजह से पॉलिसी बंद हो जाती है। जिसके बाद पॉलिसीधारक को बेनिफिट्स नहीं मिलते हैं ।