Central Bank of India स्कीम में 20 साल की उम्र तक बन जाएंगे लखपति, जानिए कैसे?

|

Updated: 10 May 2020, 10:09 AM IST

  • Central Bank की इस नाम है 'जब चाहो लखपति बन जाओ'
  • 10 साल तक हर महीने करना होता है 595 रुपए का Investment

नई दिल्ली। वैसे कोरोना वायरस लॉकडाउन ( Coronavirus Lockdown ) का तीसरा फेज 17 मई को खत्म हो रहा है। उसके बाद लॉकडाउन को आगे खिसका जाएगा या यहीं पर ही फुल स्टॉप लगा दिया जाएगा, कुछ पता नहीं। ऐसे में लोगों को आर्थिक रूप से संकट का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में काम आता है निवेश। यही निवेश आपको ऐसे ही संकट के समय में आर्थिक रूप से मजबूती देता है। आज हम आपको ऐसे ही निवेश योजना ( Investment Plan ) के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसके तहत आप हर महीने दस साल तक 595 रुपए का निवेश करना होगा। वैसे इस स्कीम में एक साल में भी लखपति बनने का ऑप्शन है। Central Bank of India की इस निवेश योजना का नाम है 'जब चाहो लखपति बन जाओ'। आइए आपको भी बताते हैं इस योजना के बारे में...

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: Lockdown 3 का शुरू हुआ Countdown, जानिए आपके शहर में कितने हुए दाम

ये लोग कर सकते हैं निवेश
- सेंट्रल बैंक की इस स्कीम में 10 साल से ज्यादा उम्र के बच्चे प्लान में निवेश कर सकते हैं।
- 10 साल की स्कीम लेकर 10 साल का बच्चा 20 साल की उम्र में लखपति बन सकता है।
- वहीं 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे अपने पेरेंट्स के साथ ज्वाइंट इंवेस्टमेंट कर सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः- Gold Price Today: New york से लेकर New Delhi तक, जानिए कितना सस्ता हुआ सोना

कैसे करें निवेश
- स्कीम में कस्टमर को अपने बजट के हिसाब से एक साल से लेकर दस साल तक का इंवेसटमेंट ऑप्शन मिलता है।
- कस्टमर अपनी मर्जी से मैच्योरिटी पीरियड और प्रीमियम टर्म को चुन सकता है।
- एक साल के इंवेस्टमेंट प्लान में हर महीने 8040 रुपए का प्रीमियम देना होगा।
- वहीं दस साल के इंवेस्ट प्लान में हर महीने 595 रुपए का निवेश करना होगा।
- 10 साल तक नियमित प्रीमियम पर मैच्योरिटी पर 1 लाख रुपए से ज्यादा का रिटर्न मिलता है।
- एक साल के प्लान में 6.65 फीसदी ब्याज मिलता है।
- 10 साल वाले प्लान पर 6.45 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है।
- जब भी ब्याज दरे संशोधित होती है, नए खातों के लिए मासिक किश्त भी परिवर्तित हो जाती है।

काटा जाएगा टीडीएस
बैंक की वेबसाइट से मिली जानकारी के अनुसार जब भी आपकी स्कीम मैच्योर होगी और उसका रुपया आपके पास आएगा तो उसमें से इनकम टैक्स के नियमों के अनुसार टीडीएस काटा जाएगा। इसके अलावा देर से स्कीम का प्रीमियम भरने पर पेनल्टी भी लगाई जाएगी। निवेश करने वाना इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से या फिर पासबुक के माध्यम से अपने अकाउंट की निगरानी कर सकता है।