Latest News in Hindi

ITR फाइलिंग : अंतिम दिन इन बातों का रखें ध्यान और जुर्माना से बचें

By manish ranjan

Aug, 31 2018 01:48:45 (IST)

अगर आपने अब तक वित्त वर्ष 2017-18 के लिए आईटीआर फाइल नहीं किया है, तो इस काम को जल्दी निपटा लें, क्योंकि अब आपके पास बस चंद घंटो का समय बचा है।

ITR फाइलिंग : अंतिम दिन इन बातों का रखें ध्यान और जुर्माना से बचें

नई दिल्ली। अगर आपने अब तक वित्त वर्ष 2017-18 के लिए आईटीआर फाइल नहीं किया है, तो इस काम को जल्दी निपटा लें, क्योंकि अब आपके पास बस चंद घंटो का समय बचा है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की ई-फाइलिंग वेबसाइट (incometaxindiaefiling.gov.in) आपको आसान तरीके से आईटीआर फाइल करने की सुविधा उपलब्ध करवाती है। वित्त वर्ष के लिए आईटीआर फाइल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2018 निर्धारित है। आज हम आपको बताने जा रहे है ऐसी कुछ बाते,जिन्हें ध्यान में रखकर आप कर सकते है आईटीआर फाइल ।


1.आईटीआर को भरने का का पहला कदम यह है की आपको अपने टीडीएस प्रमाण पत्र (फॉर्म -16 और / या फॉर्म 16 ए) को एक साथ प्राप्त करना है। यदि आपने नौकरियां बदल दी हैं, तो आपको TDS प्रमाण पत्र की आवश्यकता होगी,आपके पहली नौकरी से फॉर्म 16 की भी जरुरत होगी। टीडीएस की जरुरत यह पता लगाने के लिए होती है कि आपकी आय पर कटौती की गई।यह कटौती कर्ताओं द्वारा सरकार के साथ जमा की जाती है। आपको TRACES वेबसाइट से 'फॉर्म 26 एएस' डाउनलोड करके उसे अपने टीडीएस प्रमाणपत्रों से मिलाना हैं। यदि आप वेतनभोगी हैं और फॉर्म -16 नहीं है, तो सुनिश्चित करें कि आपके पास सैलरी सीलप हों।

2.यदि आपका टीडीएस प्रमाण पत्र और फॉर्म 26 एएस के बीच मेल नहीं खा रहा है तो आपको अपने आईटीआर विवरण इनपुट करना चाहिए।जो आपके अनुसार सही हैं। इसके अलावा, आपको आईटीआर में आपके द्वारा दर्ज किए गए विवरणों का समर्थन करने के लिए सबूत रखना होगा क्योंकि आयकर विभाग आपको भविष्य में इन विवरणों को साबित करने के लिए कह सकता है।

3.टीडीएस प्रमाण पत्र में ऐसी जानकारी होती है जो आईटीआर दर्ज करने में आपकी मदद कर सकती है। आपके नियोक्ता से प्राप्त फॉर्म 16 आपको आपकी वेतन आय से टीडीएस से कटौती और अधिनियम 80c से 80uके तहत दावा किए गए कटौती के बारे में जानकारी देगा। यदि आपके पास एक से अधिक फॉर्म 16 हैं, तो आपको दोनों रूपों से आय जोड़नी होगी, लेकिन दोनों से कटौती न करें क्योंकि आप एक टैक्स बचत एवेन्यू के लिए दो बार लाभ का दावा नहीं कर सकते। दूसरी ओर, फॉर्म 16 ए आपको भुगतान की गई राशि के बारे में जानकारी देता है जैसे कि बैंकों से ब्याज आय और टैक्स कटौती।

4.यह आवश्यक है कि आप आईएफएससी कोड, बैंक का नाम, बैंक खाता संख्या इत्यादि सटीक बैंक खाता विवरण प्रस्तुत करें ताकि आप तुरंत अपने रिफंड हासिल कर सकें। अब, आईटीआर फॉर्म गैर-निवासियों को भारत के बाहर बैंक खाते का ब्योरा देने की इजाजत देता है, जो बैंक का आईबीएएन या स्विफ्ट कोड है, ताकि उन्हें सीधे रिफंड मिल सके। संक्षेप में, विभाग ने गलत रिटर्न फाइलिंग पर गंभीर दंड को लेकर टैक्सपेयर्स को आगाह किया है। हमारा मानना है कि यह उन करदाताओं के लिए नये करदाताओं के लिए निर्देशित हैं जो जानबूझकर आंकड़ों में हेरफेर करते हैं, तथ्यों को दबाते हैं, निवेश बढ़ाते हैं और टैक्स चोरी के लिए खर्च बढ़ाते हैं।

5.आप यह सुनिश्चित करें कि फाइल किए गए इनकम टैक्स रिटर्न में आपने आय के अपने सभी स्रोतों का खुलासा किया है। यदि आप किसी भी व्यवसाय या पेशे से आय प्राप्त करने वाले वेतनभोगी व्यक्ति हैं, तो अपनी रिटर्न फाइल करने के लिए उचित फॉर्म चुनें जैसे- आईटीआर 3 या आईटीआर 4 (यदि आप अनुमानित कर का विकल्प चुनते हैं)। यदि आप आईटीआर-1 चुनते हैं और व्यवसाय या पेशे से अपनी आय का खुलासा नहीं करते हैं, तो यह कानून का उल्लंघन होगा और इस पर आपको जुर्माना चुकाना पड़ सकता है।


6.एक बार जब आप आईटीआर फॉर्म को सफलतापूर्वक भर चुके हैं और इसे अपलोड कर लिया है, तो आपके पास अपलोड करने की तारीख के बाद से 120 दिन होंगे रिटर्न वेरीफाईकरने कि लिए। अपना आईटीआर दाखिल करने के बाद, यदि आपको पता चलता है कि आपने कोई गलती की है, तो घबराईये मत क्योंकि आपके पास संशोधित रिटर्न दाखिल करके इसे सुधारने का विकल्प है।

Related Stories