TikTok कर रहा था यूजर्स का डेटा ट्रैक, अब निपटारे के देने होंगे 9.2 करोड़ डॉलर, जानिए पूरा मामला

|

Published: 26 Feb 2021, 03:31 PM IST

  • बता दें कि इससे पहले साल 2019 में टिकटॉक ने कथित बच्चों की गोपनीयता का उल्लंघन के एक मामले का 11 लाख डॉलर का भुगतान कर निपटारा किया था।

 

चीनी शार्ट-वीडियो मेकिंग ऐप TikTok ने अमरीका में निजता के उल्लंघन पर दायर एक मुकदमे का निपटारा करने के लिए 9.2 करोड़ डॉलर का भुगतान करने पर अपनी सहमति व्यक्त की है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, मुकदमे में इस बात का दावा किया गया है कि टिकटॉक द्वारा यूजर्स को ट्रैक करने के लिए बेहद संवेदनशील व्यक्तिगत डेटाओं का संग्रह किया जाता है और इनका उपयोग उनके काम में आने वाले या उपयोगी विज्ञापनों के प्रसारण पर किया जाता है।

आरोपों से सहमत नहीं
टिकटॉक के एक प्रवक्ता के हवाले से गुरुवार को जारी इस रिपोर्ट में कहा गया कि हमारे ऊपर जिस तरह के आरोप लगे हैं, उनसे हम सहमत तो नहीं हैं, लेकिन हम एक लंबी कानूनी प्रक्रिया का सहारा लेने के बजाय टिकटॉक कम्युनिटी को एक सुरक्षित और खुशनुमा अनुभव दिलाने के अपने प्रयासों पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं। इससे पहले साल 2019 में टिकटॉक ने कथित बच्चों की गोपनीयता का उल्लंघन के एक मामले का 11 लाख डॉलर का भुगतान कर निपटारा किया था।

भारत से कारोबार समेटने की घोषणा
पिछले माह टिकटॉक ने भारत से अपना कारोबार समेटने की घोषणा की। बता दें भारत सरकार ने टिकटॉक पर प्रतिबंध लगा रखा है। टिकटॉक ने प्रतिबंध लगने के करीब सात महीने बाद कहा है कि वह देश में 2,000 से अधिक कर्मचारियों की छंटनी करेगा। यह शॉर्ट वीडियो ऐप भारत में सबसे लोकप्रिय ऐप्स में से एक था। बता दें कि भारत सरकार ने गलवान घाटी में भारत-चीन सेनाओं के बीच हुई झड़प के बाद कई चाइनीज ऐप्स पर बैन लगा दिया था।

वहीं पिछले दिनों आई एक रिपार्ट के अनुसार टिकटॉक की पैरेंट कंपनी बाइटडांस (ByteDance) टिकटॉक के इंडियन ऑपरेशन को कॉम्पिटिटर glance को बेचने की तैयारी में है। बताया जा रहा है कि इस डील को लेकर बातचीत की शुरुआत जापान के सॉफ्ट बैंक ग्रुप की तरफ से की गई है। दोनों पार्टी के लिए सॉफ्टबैंक बड़ा निवेशक है। बताया जा रहा है कि सॉफ्टबैकं ने ग्लांस की पैरेंट कंपनी InMobi और टिकटॉक की पैरेंट कंपनी बाइटडांस दोनों में निवेश किया है। डील की बातचीत फिलहाल शुरुआती चरण में बताई जा रही है।