अमरीका में बैन की कोशिशों के बावजूद TikTok की जबरदस्त कमाई, भारत से कारोबार समेटने की घोषणा

|

Published: 27 Jan 2021, 05:46 PM IST

  • रिपोर्ट के अनुसार पिछले वर्ष कंपनी का राजस्व लगभग 35 बिलियन डॉलर रहा।
  • बाइटडांस ने भारत में अपना कारोबार बंद करने की घोषणा कर दी है।

शॉर्ट वीडियो प्लेटफॉर्म TikTok के स्वामित्व वाली चनी सोशल मीडिया कंपनी बाइटडांस का राजस्व पिछले साल लगभग दोगुना हो गया है। रिपोर्ट के अनुसार पिछले वर्ष कंपनी का राजस्व लगभग 35 बिलियन डॉलर रहा। ग्लोबल कम्पीटिशन और यूएस में डोनाल्ड ट्रंप द्वारा इस पर बैन की कोशिशों के बावजूद टिक टॉक के मालिकों ने यह सफलता हासिल की। बता दें कि टिक टॉक भारत में भी बैन है और यहां इस पर से बैन हटने के आसार भी नजर नहीं आ रहे हैं।

साल 2020 में 7 बिलियन डॉलर का लाभ
रिपोर्ट में बताया गया है कि साल 2020 में इस चाइनीज कंपनी ने करीब 7 बिलियन डॉलर का लाभ हासिल किया। यह भी तब जब अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति ने टिक टॉक पर बैन लगाने की कोशिश की। साथ ही इसे अमरीकन कंपनी को बेचने का दबाव भी बनाया। इसके बावजूद चीनी कंपनी ने तेजी से ग्रोथ की। अब कंपनी हांगकांग में अपने सोशल मीडिया साम्राज्य के हिस्से को सूचीबद्ध करने की ओर बढ़ रही है।

यह भी पढ़ें—TikTok ने नए फीचर पर किया काम शुरू, अपलोड कर पाएंगे 3 मिनट तक के वीडियोज

भारत से कारोबार समेटने की घोषणा
बाइटडांस ने भारत में अपना कारोबार बंद करने की घोषणा कर दी है। बता दें कि भारत में टिकटॉक और हेलो ऐप का स्वामित्व रखने वाली इस कंपनी की सेवाओं पर बैन जारी है। रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने कर्मचारियों को इस बारे में ईमेल भेजे हैं। इसमें बताया गया है कि कंपनी टीम के आकार को कम कर रही है और इस निर्णय से भारत के सभी कर्मचारी प्रभावित होंगे।

यह भी पढ़ें—Signal ने बनाया रिकॉर्ड, व्हाट्सएप को भी पीछे छोड़ इस मामले में बनी नंबर 1

नहीं जानते भारत में कब वापसी करेंगे
इसके साथ ही भारत में वापासी को लेकर ईमेल में कहा गया है कि हम नहीं जानते कि भारत में कब वापसी करेंगे। हम अपने लचीलेपन पर भरोसा कर रहे हैं और आने वाले समय में ऐसा करने की इच्छा रखते हैं। बाइटडांस के एक सूत्र के अनुसार कंपनी ने बुधवार को एक टाउन हॉल का आयोजन किया, जहां उसने भारत के कारोबार को बंद करने के बारे में बताया। बता दें कि भारत सरकार ने जून 2020 में टिकटॉक और हेलो सहित चीन के 59 ऐप्स पर बैन लगा दिया था।