इन स्मार्टफोन ऐप्स का इस्तेमाल नहीं कर सकते भारतीय सैनिक, उल्लंघन पर ​मिलती है कड़ी सजा

|

Published: 09 Feb 2021, 02:49 PM IST

  • रिपोर्ट के अनुसार, 13 लाख से अधिक जवानों वाली भारतीय सेना में केवल आठ कर्मियों को प्रतिबंध का उल्लंघन करते पाया गया है।
  • उल्लंघन के लिए वही सजा दी जाती है, जो सेना में अनुशासनहीनता के लिए पारंपरिक दंड का प्रावधान है।

भारतीय सेना के जवान कुछ सोशल मीडिया और मोबाइल ऐप्स का इस्तेमाल नहीं कर सकते। बता दें कि पिछले साल जून में भारतीय सेना ने फेसबुक (Facebook) और इंस्टाग्राम (Instagram) जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म सहित 89 स्मार्टफोन ऐप्लिकेशन के उपयोग पर प्रतिबंध लगाया था। एक एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय सेना का यह प्रतिबंध सफल रहा। 13 लाख से अधिक जवानों वाली भारतीय सेना में केवल आठ कर्मियों को प्रतिबंध का उल्लंघन करते पाया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, यह प्रतिबंध 15 जुलाई को लागू हुआ था और प्रतिबंध का पालन करने के लिए कम से कम 730 सेना अधिकारियों को अधिकृत किया गया है। इन ऐप्स में सरकार द्वारा आम जनता के लिए प्रतिबंधित 59 चीनी एप शामिल हैं।

इन ऐप्स के इस्तेमाल पर प्रतिबंध
बता दें कि भारतीय सेना ने व्हाट्सएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम, एला, स्नैपचैट, पबजी, मैसेंजर, ट्रू कॉलर, एंटी-वायरस 360 सिक्योरिटी, टिंडर, टंबलर, रेडिट, हंगामा, सोंग्स.पीके, कैम स्कैनर, ओके क्यूपिड, टंबलर, डेली हंट और अन्य आम एप के उपयोग पर भी प्रतिबंध लगाया है। इनमें से अधिकांश एप अमरीकी और चीनी हैं।

इस वजह से लगाया प्रतिबंध
पिछले साल पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास भारत और चीनी सेना के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद सेना ने साइबर हमले, डिजिटल डेटा के अवैध उपयोग और संवेदनशील जानकारी को लीक होने से रोकने के लिए प्रतिबंध लगाया था। पिछले कुछ वर्षों में ऐसे मामले देखने को मिले हैं, जिनमें फेसबुक के माध्यम से भारतीय सेना के जवानों को हनीट्रैप में फंसाया गया और भारतीय सेना और सरकार से संबंधित संवेदनशील जानकारी लीक करने का प्रयास किया गया।

ऐप्स को लेकर नियम कड़े किए
एक अधिकारी ने कहा, पांच साल पहले तक, हमारे कर्मियों के लिए सब कुछ खुला था। कोई भी कुछ भी एक्सेस कर सकता था। हालांकि सेना आधिकारिक कार्य के लिए व्हाट्सएप और निजी जीवन के लिए फेसबुक के उपयोग पर कई निर्देश जारी करती थी, लेकिन पिछले साल जून में इसने ऐप्स के उपयोग पर उल्लंघन के लिए कड़े नियम बना दिए। देशभर में प्रत्येक सैनिक और अधिकारी पर सख्ती से प्रतिबंध लागू किया गया है। उन्होंने प्रतिबंधित किए गए प्लेटफॉर्म्स से अपने अकाउंट को डिलीट कर दिया है और अपने फोन पर कोई भी ऐप्लिकेशन इंस्टॉल नहीं की है।

उल्लंघन पर मिलती है सजा
आधिकारिक सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि लगभग 730 अधिकृत अधिकारी इसी चीज की समीक्षा करने में लगे हुए हैं कि क्या सेना के जवान हर हाल में नियम का पालन कर रहे हैं या फिर किसी ऐप्स का इस्तेमाल किया जा रहा है। अनुपालन को लेकर प्रमाणपत्र जारी किया जाता है। अभी तक केवल आठ मामलों में नियमों का उल्लंघन पाया गया है। सूत्रों ने कहा कि उल्लंघन के लिए वही सजा दी जाती है, जो सेना में अनुशासनहीनता के लिए पारंपरिक दंड का प्रावधान है।

अकाउंट बनाने की अनुमति नहीं
सूत्रों ने कहा कि कुछ मामलों में कर्मियों को हफ्तेभर के लिए उनकी पीठ पर रेत की बोरियों को रखकर मैदान के चक्कर लगाने की सजा दी गई है।
सूत्रों ने कहा कि गंभीर मामलों में सजा भी कड़ी दी जा रही है, जिसमें निलंबन या सेवाओं को समाप्त करना शामिल है। एक अधिकारी ने कहा, लेकिन भारतीय सेना एक उच्च अनुशासित संस्था है और प्रतिबंध अब तक काफी प्रभावी साबित हुए हैं। हालांकि, सैन्य संस्थानों, अकादमियों और कार्यालयों के भीतर सेना को सामग्री की निगरानी के लिए अपने डेस्कटॉप पर इंटरनेट ब्राउजर पर फेसबुक जैसे प्लेटफार्मों तक पहुंचने की अनुमति है।
सूत्रों ने कहा कि किसी भी कर्मी को अकाउंट बनाने या ऐप्स रखने की अनुमति नहीं है।

परिवार पर प्रतिबंध नहीं
सेना के सूत्रों ने कहा कि सेना में हर कोई अब अपने परिवार और दोस्तों के साथ पुराने तरीके से ही जुड़ता है। एक अधिकारी ने कहा, हम सभी निजी मैसेज और सोशल मीडिया के बजाय फोन पर बात करते हैं। हालांकि सेना के जवानों और अधिकारियों के परिवारों पर यह प्रतिबंध नहीं है। एक अधिकारी ने कहा कि वे आम नागरिक हैं, इसलिए जो अन्य लोगों के समान अधिकार के हकदार हैं। सूत्रों ने कहा कि संदेश और विशेष जैसे कुछ इन-हाउस एप्लिकेशन हैं, जिनका इस्तेमाल सेना के जवान मैसेजिंग उद्देश्यों के लिए करते हैं।