Solar Eclipse 2021: साल का पहला सूर्य ग्रहण आज, जानिए भारत समेत दुनियाभर में कहां-कहां दिखेगा यह अद्भूत नजारा?

|

Updated: 09 Jun 2021, 11:58 PM IST

Solar Eclipse 2021: भारत में ये ग्रहण आंशिक रूप से ही होगा। यही वजह है कि ग्रहण काल मान्य नहीं होगा। वहीं असली 'रिंग ऑफ फायर' यानी वलयकार सूर्य ग्रहण का नजारा विदेशों में ही देखा जा सकेगा।

नई दिल्ली। साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण ( Solar Eclipse 2021 ) गुरुवार यानी 10 जून को पड़ने वाला है। इस बार सूर्य का करीब 94 फीसदी हिस्सा चंद्रमा ग्रहण कर लेगा। ऐसे में केवल सूर्य का बाहरी हिस्सा ही दिखाई देगा और दिन में अंधेरा छा जाएगा।

भारत में ये ग्रहण आंशिक रूप से ही होगा। यही वजह है कि ग्रहण काल मान्य नहीं होगा। वहीं असली 'रिंग ऑफ फायर' यानी वलयकार सूर्य ग्रहण का नजारा विदेशों में ही देखा जा सकेगा। आगामी सूर्य ग्रहण जिसे "अंगूठी ग्रहण" कहा जाता है, पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी के कारण बहुत अधिक ध्यान आकर्षित कर रहा है। चंद्रमा पृथ्वी से इतना दूर होगा कि वह सूर्य से छोटा दिखाई देगा। कुछ क्षेत्रों में चंद्रमा एक बड़ी चमकदार प्लेट (डिस्क) की तरह दिखाई देगा, जो चंद्रमा के चारों ओर आग की अंगूठी जैसा दिखता है।

यह भी पढ़ें :- Solar Eclipse 2021: 148 वर्ष बाद पड़ रहा अद्भुत संयोग, जानिए सूर्य ग्रहण का समय और भारत में कहां देगा दिखाई

नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) के अनुसार, कनाडा, ग्रीनलैंड और उत्तरी रूस के कुछ हिस्सों में लोग कुंडलाकार ग्रहण का अनुभव करेंगे। अधिकांश कनाडा और कैरिबियन, यूरोप, एशिया और उत्तरी अफ्रीका के कुछ हिस्सों में आंशिक सूर्य ग्रहण का अनुभव होगा।

अमरीका के दक्षिणपूर्व, पूर्वोत्तर, मध्यपश्चिम और उत्तरी अलास्का के कुछ हिस्सों में आंशिक सूर्य ग्रहण दिखाई देगा। जबकि भारत से ग्रहण दिखाई नहीं देगा, कुछ रिपोर्टों का दावा है कि लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में आंशिक सूर्य ग्रहण दिखाई पड़ेगा।

इन जगहों पर देखने को मिलेगा सूर्य ग्रहण

साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण दोपहर 1 बजकर 42 मिनट से शुरू होकर शाम के 6 बजकर 41 मिनट तक रहेगा। भारत में आंशिक असर होने से ये दिखाई नहीं देगा। ऐसे में आइए जानते हैं भारत समेत दुनिया में कहां-कहां पर सूर्य ग्रहण देखने को मिल सकता है..

- अरुणाचल प्रदेश

अरुणाचल प्रदेश और पूर्व के कुछ अन्य राज्यों में आंशिक सूर्य ग्रहण दिखाई देगा। सूर्यास्त से ठीक पहले शाम 5:52 बजे अरुणाचल के दिबांग वन्यजीव अभयारण्य से इसका केवल एक हिस्सा ही दिखाई देगा। यह अनुमान लगाया गया है कि ग्रहण यहां से बहुत कम समय के लिए (अधिकतम 3-4 मिनट) दिखाई देगा। कोई भी व्यक्ति जो ज्यादा इच्छुक हो देखने के लिए वे उचित सावधानी बरतें और नग्न आंखों से न देखें।

- लद्दाख

भारत में अरुणाचल प्रदेश के अलावा लद्दाख में भी सूर्य ग्रहण की एक झलक दिखेगी। लद्दाख में दोपहर 12:25 बजे से दोपहर 12:51 बजे तक दिखाई देगा। यह आश्चर्यजनक घटना देखने के लिए यह एक आदर्श स्थान हो सकता है। थोड़ी देर के लिए लद्दाख की उत्तरी सीमा पर दिखाई देगा।

यह भी पढ़ें :- surya grahan 2021 जानिए क्यों प्रभावी नहीं रहेगा वर्ष का पहला सूर्यग्रहण

- यूरोप

यूरोप में कई जगहों पर साल के पहले सूर्य ग्रहण को देखा जा सकेगा। पूरे यूरोप के कई देशों में इस बार इस अद्भूत खगोलीय घटना को देखा जा सकेगा।

- पूर्वोत्तर अमरीका और आसपास

पूर्वी अमरीका और आसपास के कई स्थानों से भी सूर्य ग्रहण दिखाई देगा। इसके अलावा, कनाडा और उत्तरी अटलांटिक सागर से भी दिखाई देगा।

- कैरेबियन

कैरिबियन क्षेत्रों में भी सूर्य ग्रहण को देखा जा सकेगा। इस क्षेत्र के कई द्वीपों में यह आकाशीय घटना दिखाई नहीं देगा। इन स्थानों के अलावा, उत्तरी अफ्रीका का हिस्सा, एशिया, उत्तरी अलास्का भी ग्रहण देखा जा सकेगा।