मॉरीशस के पीएम ने भारत की कोशिश को सराहा, कहा- इसरो टीम के साथ सहयोग को तैयार

|

Updated: 07 Sep 2019, 03:40 PM IST

  • मॉरीशस के प्रधानमंत्री, प्रवीण जुगन्नुथ ने कहा कि भारत भविष्य में तकनीकि रूप से अधिक उन्नत होगा
  • चंद्रयान-2 की असफलता के बावजूद दुनिया के विभिन्न देशों ने भारत की इस कोशिश की प्रशंसा की है

नई दिल्ली। चंद्रयान-2 की असफलता को लेकर भारत एक तरफ निराश है मगर उसके प्रयास की हर तरफ सराहना हो रही है। दुनिया के विभिन्न देशों ने भारत की इस कोशिश की प्रशंसा की है। मॉरीशस के प्रधानमंत्री, प्रवीण जुगन्नुथ ने कहा कि हालांकि इस बार यह सफल लैंडिंग नहीं था। मगर इस अहम कार्यक्रम से भारत भविष्य में तकनीकि रूप से अधिक उन्नत होगा। हम भविष्य में मॉरीशस और इसरो टीम के बीच सहयोगी प्रयासों के लिए तत्पर हैं।

चंद्रयान-2 मिशन पर भूटानी पीएम- मोदी और ISRO टीम पर भरोसा, एक दिन जरूर पूरा करेंगे लक्ष्य

गौरतलब है कि भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो द्वारा चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर को उतराने का अभियान शनिवार को अपनी तय योजना के मुताबिक, पूरा नहीं हो सका। लैंडर का अंतिम समय में जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया। इसरो के अधिकारियों के मुताबिक, चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर पूरी तरह सुरक्षित और सही है।

चंद्रयान-2 मिशन पर भूटान के प्रधानमंत्री लोटे शेरिंग ने भी अपनी शुभकामनाएं भेजी हैं। देश के महत्वाकांक्षी चंद्रयान मिशन पर भारत को बधाई देते हुए भूटानी पीएम लोटे शेरिंग ने कहा,'हमें भारत और उसके वैज्ञानिकों पर गर्व है। चंद्रयान-2 की लैंडिंग में आखिरी क्षणों में कुछ रूकावटें आती दिखीं, लेकिन ISRO वैज्ञानिकों का साहस और उनकी कड़ी मेहनत ऐतिहासिक है।'

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..