मेडागास्कर और मॉरिशस की पांच दिनों की यात्रा के पहले दिन पोर्ट लुइस पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद, भव्य स्वागत

|

Updated: 11 Mar 2018, 09:13 PM IST

राष्ट्रपति कोविंद मॉरिशस की आजादी के 50 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित समारोह में विशेष अतिथि के तौर पर शामिल हुए।

नई दिल्ली। भारत के प्रथम नागरिक राष्‍ट्रपति रामनाथ अपनी पत्नी सविता कोविंद के साथ मेडागास्‍कर और मॉरीशस के पांच दिवसीय दौरे के पहले दिन मॉरिशस पहुंच गये हैं। जहां पर मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जुगनॉथ ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उनकी पत्नी सविता कोविंद का भव्य स्वागत किया। राष्ट्रपति कोविंद मॉरिशस की आजादी के 50 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित समारोह में विशेष अतिथि के तौर पर शामिल हुए। आपको बता दें कि रामनाथ कोविंद अपनी मॉरिशस दौरे के दौरान अपनी समकक्ष अमीना गुरीब से मॉरिशस के स्टेट हाऊस ली रीड्यूट में मुलाकात की। इससे पहले राष्ट्रपति कोविंद और उनकी पत्नी सविता कोविंद पोर्ट लुईस हवाई अड्डा पहुंचे जहां पर मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जुगनाथ और उनकी पत्नी कोबिता जुगनाथ ने भव्य स्वागत किया। बता दें कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद मॉरिशस में बन रहे विश्व हिंदी सचिवालय का भी उद्घाटन करेंगे। साथ ही एक ईएनटी अस्पताल और सामाजिक आवास परियोजनाओं की आधारशिला रखेंगे।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में, ये है कार्यक्रम

भारतीय राष्ट्रपति की पहली द्वीपक्षीय देश की यात्रा
गौरतलब है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अपनी पत्नी सविता कोविंद के साथ 11 मार्च से 15 मार्च तक मेडागास्कर औ मॉरिशस की यात्रा पर निकले हैं। ये दोनों देश भारत के रणनीतिक और सामरिक दृष्टि के लिहाज से बेहद खास है। विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (हिंद महासागर क्षेत्र) संजय पांडा ने कहा कि कोविंद मॉरिशस की आजादी का 50वां साल मनाने के लिए आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि होंगे जबकि संयुक्त सचिव नीना मल्होत्रा ने कहा कि राष्ट्रपति 14-15 मार्च को मेडागास्कर यात्रा पर रहेंगे। यह किसी भारतीय राष्ट्रपति की ओर से इस द्वीपक्षीय देश की पहली यात्रा होगी।

जानिए क्यों डर गई एमएचआरडी मिनिस्ट्री , रद्द हुआ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यक्रम ...

भारत के लिए खास हैं ये देश
भारत के लिहाज से देखें तो हिन्द महासागर की गोद में बसे ये दोनों अफ्रीकी देश बेहद ही खास महत्व रखता है। वर्तमान में चीन जिस तरह से हिन्द महासागर के साथ-साथ प्रशान्त महासागर में अपनी खुसपैठ बढ़ा रहा है उससे भारत की सामरिक सुरक्षा खतरे में पड़ सकती है। इसलिए रामनाथ कोविंद की यह यात्रा सामरिक दृष्टि के साथ रणनीतिक रुप से बेहद हीं जरुरी है। बता दें रामनाथ कोविंद ने पिछले साल राष्ट्रपति का पदभार संभालने के बाद इथियोपिया और जिबूती की यात्रा की थी। इस यात्रा के दौरान चार समझौतों पर हस्ताक्षर होंगे जिसमें उच्च शिक्षा से लेकर आयुर्वेद से जुड़े क्षेत्र शामिल हैं।

पीएम मोदी के बुलावे पर मॉरिशस के प्रधानमंत्री के सम्मान भोज में शामिल होंगे नीतीश

मेडागास्कर में व्यापारिक समुदाय को करेंगें संबोधन
आपको बता दें कि मेडागास्कर में रामनाथ कोविंद अपने समकक्ष से मुलाकात करेंगे और व्यापारिक समुदाय को भी संबोधित करेंगे। वह मेडागास्कर के राष्ट्रपति हेरी राजाओनारीमंपियानीना के साथ बैठक में हिस्सा लेंगें। संयुक्त सचिव नीना मल्होत्रा ने कहा कि भारत का हिंद महासागर क्षेत्र में लगभग सभी देशों के साथ पहले से रक्षा सहयोग समझौता है। अफ्रीकी देशों में दक्षिण अफ्रीका, तंजानिया, केन्या, मोंजाबिक, सेशेल्स के साथ समझौते हैं। इसी कड़ी में मेडागास्कर एक और देश हो सकता है जिसके साथ अहम समझौते होने की संभावना है।

चैरिटी क्रैडिट कार्ड से शॉपिंग मामले पर इस्तीफा देंगी मॉरिशस की राष्ट्रपति अमीना गुरीब फकीम

Related Stories