मंगोलिया: कोरोना पॉजिटिव महिला के साथ हुई बदसलूकी तो प्रधानमंत्री ने दे दिया इस्तीफा, जानें पूरा मामला

|

Published: 22 Jan 2021, 05:30 PM IST

  • मंगोलिया में कोरोना की एक महिला मरीज के इलाज में लापरवाही बरती गई थी
  • इसकी वजह से लोग सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने लगे
  • प्रदर्शन की वजह से देश के प्रधानमंत्री खुरेलसुख उखना को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ गया
  • PM के साथ देश के स्वास्थ्य मंत्री समेत कई प्रशासनिक अधिकारियों ने भी इस्तीफा दिया है।

उलान बटोर: ईस्ट एशिया के देश मंगोलिया के प्रधानमंत्री खुरेलसुख उखना (Khurelsukh Ukhnaa) ने संसद को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। उन्होंने ये इस्तीफा इसलिए दिया है क्योंकि उनके देश में एक कोरोना संक्रमित महिला के साथ बदसलूकी की गई थी।

Coronavirus के नए रूप का खौफ, अब नई वैक्‍सीन बनाने में जुटे ऑक्‍सफोर्ड वैज्ञानिक

ये है मामला

दरअसल, मंगोलिया की राजधानी उलान बटोर में कोरोना से जूझ रही महिला ने अस्पताल में एक बच्चे को जन्म दिया था। मां बनने के बाद अस्पताल प्रसाशन महिला को क्वारंटीन केंद्र ले जा रहा था लेकिन इस हाड़ कंपाने वाली ठंड में अस्पताल ने बच्चे और महिला को सिर्फ एक कुर्ता पजामा और प्लास्टिक के जूते ही दिए।

अस्पताल प्रशासन की इस लापरवाही का किसी ने वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया। देखते ही देखते ये वीडियो वायरल हो गया और लोगों ने मंगोलिया सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया।उलान बटोर में हजारों की संख्या में लोग इकट्ठा होकर सरकार के खिलाफ नारे बाजी करने लगे।राजधानी में जबरदस्त प्रदर्शन की वजह से देश के प्रधानमंत्री खुरेलसुख उखना को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ गया। PM के साथ देश के स्वास्थ्य मंत्री समेत कई प्रशासनिक अधिकारियों ने भी इस्तीफा दिया है।

भूटान पहुंचा भारत की ओर से भेजा कोरोना वैक्सीन गिफ्ट, खुद पीएम शेरिंग ने किया स्वागत

PM ने मांगी माफी

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस्तीफा देने के साथ-साथ प्रधानमंत्री खुरेलसुख ने लोगों से माफी भी मांगी है। पीएम ने कहा, 'दुर्भाग्य से हमने उस मां को स्थानांतरित करने के दौरान एक गलती की। इसलिए एक प्रधानमंत्री के रूप में मुझे जिम्मेदारी लेनी चाहिए।'

देश में कोरोना से सिर्फ दो लोगों की मौत हुई है

बता दें मंगोलिया की कुल जनसंख्या साढ़े 32 लाख है। यहां अब तक कोरोना के केवल 1584 मामले ही सामने आए हैं। यहां कोरोना संक्रमण बेहद कम है।देश में कोरोना महामारी से सिर्फ दो लोगों की मौत हुई है जबकि 536 लोगों का इलाज हो रहा है।