भारत पहुंचे मॉरीशस के पीएम प्रविंद कुमार, प्रयागराज में करेंगे पीएम के साथ प्रवासी भारतीय दिवस का उद्धाटन

|

Updated: 20 Jan 2019, 10:57 AM IST

मॉरीशस का बिहार से सदियों पुराना गहरा नाता है। वहां से कमाने गए गिरमिटिया मजदूरों का आज वहां की सत्ता पर बड़ा प्रभाव है।

नई दिल्ली। मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ 8 दिवसीय दौरे पर रविवार को भारत पहुंचे। प्रविंद कुमार पीएम नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय मुद्दों पर बातचीत करेंगे। साथ ही मॉरीशस और भारत के बीच संबंधों को और मजबूती देंगे। वह मंगलवार को वाराणसी में प्रवासी भारतीय दिवस कार्यक्रम में भी शरीक होंगे। सोमवार को कुमार वाराणसी के लिए रवाना होंगे। मॉरीशस के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवीन रामगुलाम ने बिहार का दौरा किया था। यहां तक कि गुलाम के सम्मान में पटना के एक चौराहे का नाम रामगुलाम चौक रखा गया है।

29 जनवरी को लौटेंगे मॉरीशस
मॉरीशस के पीएम प्रविंद कुमार प्रयागराज में मंगलवार को पीएम मोदी के साथ संयुक्त रूप से प्रवासी भारतीय दिवस का उद्घाटन करेंगे। मॉरीशस के प्रधानमंत्री का देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भी मुलाकात का कार्यक्रम है। प्रयागराज के अलावा प्रविंद का महाराष्ट्र जाने का भी कार्यक्रम है। इसके बाद 28 जनवरी को वे स्वदेश रवाना हो जाएंगे।

बिहार से है पुराना नाता
आपको बता दें कि मॉरीशस का बिहार से सदियों पुराना गहरा नाता है। बिहार से कमाने गए गिरमिटिया मजदूरों का आज वहां की सत्ता पर बड़ा प्रभाव है। महात्मा गांधी संस्थान में 1842 से 1910 के बीच कोलकाता बंदरगाह से मॉरीशस गए करीब 4 लाख 54 हजार गिरमिटिया मजदूरों का रिकॉर्ड दर्ज है। मॉरीशस सरकार ने इन रिकॉर्ड्स की आधिकारिक तौर पर मांग की थी। ताकि गिरमिटिया मजदूर अपने पुरखों को पहचान सकें। इससे पहले बिहार सरकार ने एक योजना बनाकर गिरमिटिया मजदूरों के गांवों की पहचान करना शुरू किया था। यहां तक कि इन रिकॉर्ड्स को डिजिटल करने का काम भी जारी है।