भूटान पहुंचा भारत की ओर से भेजा कोरोना वैक्सीन गिफ्ट, खुद पीएम शेरिंग ने किया स्वागत

|

Updated: 20 Jan 2021, 09:01 PM IST

HIGHLIGHTS

  • India Corona Vaccine: दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत करने के चार दिन बाद यानी बुधवार (20 जनवरी) भारत ने भूटान और मालदीव को कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराया है।
  • भारत ने भूटान को कोरोना वैक्सीन के डेढ़ लाख खुराक और मालदीव को एक लाख खुराक दिया है।

थिम्फू। भारत ने सच्चे पड़ोसी का धर्म निभाते हुए कोरोना संकट ( Corona Crisis ) से जूझ रहे पड़ोसियों को वैक्सीन उपलब्ध कराना शुरू कर दिया है। भारत ने सबसे पहले मालदीव को कोरोना वैक्सीन दी। उसके बाद भूटान को भी कोरोना वैक्सीन ( Corona Vaccine ) की पहली खेप मिल चुकी है।

दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत करने के चार दिन बाद यानी बुधवार (20 जनवरी) भारत ने भूटान और मालदीव को कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराया है। भूटान के प्रधानमंत्री लौटे शेरिंग खुद वैक्सीन को रिसीव करने के लिए पहुंचे और स्वागत किया।

पड़ोसी देशों के लिए भारत ने बढ़ाया मदद का हाथ, छह देशों को भेजेगा Corona Vaccine

इस बाबत भूटान के प्रधानमंत्री शरिंग ने खुद ट्विटर हैंडल पर कुछ तस्वीरें साझा की है, जिनमें वे कोरोना टीकों के कंसाइनमेंट के साथ दिखाई दे रहे हैं। बता दें कि भारत ने भूटान को वैक्सीन की डेढ़ लाख जबकि मालदीव को एक लाख खुराक मुहैया कराई है।

बता दें कि भारत ने मंगलवार को ये घोषणा की थी कि बुधवार को 6 देशों को कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति शरू की जाएगी। इनमें भूटान, मालदीव, नेपाल, म्यांमा, बांग्लादेश और सेशेल्स शामिल हैं। भारत ने कहा था कि संकट के इस घड़ी में भारत इन देशों को यह वैक्सीन अनुदान सहायता के रूप में देगा।

भूटान ने की भारत की तारीफ

भूटान के पीएम लौते शेरिंग के मुताबिक, स्थानीय समयानुसार दोपहर करीब 3 बजकर 25 मिनट पर भारतीय वायुसेना का विमान राजधानी पारो में लैंड हुआ। उन्होंने एक प्रेस रिलीज के जरिए अपनी खुशी जाहिर की और कहा कि भूटान भारत का तोहफा पाने वाला पहला देश बन गया है।

मालूम हो कि बुधवार की सुबह मुंबई से भूटान के लिए स्पाइसजेट का एक विमान डेढ़ लाख टीके के साथ, जबकि दोपहर में ही एयर इंडिया का एक विमान टीके का एक लाख खुराक लेकर मालदीव के लिए रवाना हुआ था। दोनों देशों को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के पुणे स्थित कारखाने में बनाए गए 'कोविशील्ड' वैक्सीन मुहैया कराया गया है।

भारत में बने कोरोना वैक्सीन की चीन ने की तारीफ, कहा- क्वालिटी में है बेहतर और कीमत भी कम

आपको बता दें कि भारत ने हमेशा से भूटान की मदद की है। इससे पहले कोरोना संकट के शुरुआती समय में भारत ने करीब दो करोड़ 80 लाख रुपए की पैरासीटामॉल, हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन, पीपीई किट, एन-95 मास्क, एक्स-रे मशीन और टेस्ट किट भूटान को उपलब्ध कराए थे। इसके अलाव, 'वंदे भारत मिशन' के तहत विभिन्न देशों में फंसे भूटान के दो लाख से अधिक नागरिकों को भारत ने स्वदेश पहुंचाया था।

इतना ही नहीं, कोरोना काल में भूटान सरकार के अनुरोध पर भारत ने व्यापार और पारगमन को सुविधाजनक बनाने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं, जिसमें टर्शा टी गार्डन (भारत) और अहले (भूटान) के माध्यम से एक नया व्यापार मार्ग खोलना भी शामिल है।