ऑक्सफोर्ड का दावा- ‘कोरोना के नए स्‍ट्रेन के खिलाफ भी कारगर है भारत की कोविशील्ड’

|

Published: 07 Feb 2021, 06:45 PM IST

  • UK के कोरोना स्‍ट्रेन के खिलाफ कारगर है भारत में बनी कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड
  • कोविशील्ड में नए स्ट्रेन से लड़ने की पूरी ताकत

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के नए स्ट्रेन ने लोगों में डर और बढा दिया है। इसे पहले की तुलना में ज्‍यादा खतरनाक बताया जा रहा है। यूके के पीएम खुद इस बात को मान चुके हैं कि नए तरह का कोरोना वायरस पहले से ज्‍यादा खतरनाक है। लेकिन इस बीच एक बड़ी खुशखबरी सामने आई है। दरअसल, सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया का दावा है कि कोविशील्ड कोरोना के सभी नए स्ट्रेन के खिलाफ बेहद कारगर है। सीरम इंस्टिट्यूट के मुताबिक उसकी वैक्सीन नया स्ट्रेन B.1.1.7 को न्यूट्रलाइज करती है।

टीकाकरण: भारत सहित दुनिया के लिए बड़ा सवाल, किसको लगाई जाए कौन-सी कोरोना वैक्सीन

सभी नए स्ट्रेन के खिलाफ कारगर

ऑक्सफोर्ड वैक्सीन परीक्षण के मुख्य वैज्ञानिक प्रोफेसर एंड्रयू पोलार्ड ने बताया कोविशील्ड वैक्सीन कोरोना के कई नए वेरिएंट के खिलाफ ज्यादा प्रभावी है। उन्होंने कहा हमारे परीक्षणों से पता चलता है कि कोविशील्ड वैक्सीन कोरोना महामारी के मूल वायरस के साथ-साथ लगभग सभी नए स्ट्रेन के खिलाफ भी सुरक्षा प्रदान करती है।
पोलार्ड ने बताया कि वैक्सीन की एक खुराक संक्रमण और उससे पीड़ित रहने की अवधि को छोटा कर सकती है जिसके परिणामस्वरूप रोग का संचरण कम हो सकता है।ये वैक्सीन कोरोना के सबसे खतरनाक संस्करण B.1.1.7 पर भी काबू पाने में सक्षम है।

कोवैक्सीन में भी नए स्ट्रेन को खत्म करने की क्षमता

इससे पहले भारत बॉयोटेक (Bharat Biotech) भी अपनी कोवैक्सीन (Covaxin) को लेकर ऐसा ही दावा कर चुकी है।भारत बॉयोटेक ने कहा था कि कोवैक्सीन (Covaxin) कोरोना के नए UK स्ट्रेन के खिलाफ भी बेहद कारगर होने के साथ-साथ प्रभावी भी है। भारत बॉयोटेक की कोवैक्सीन भारत की इकलौती स्वदेशी वैक्सीन है। इसे फार्मा कंपनी भारत-बायोटेक और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने मिलकर तैयार किया है।

SPECIAL REPORT : कैसे तय होगा कि किसको कौन सी कोरोना वैक्सीन की डोज दी जाए?

भारत के लिए दोहरा फायदा

बता दें कोरोना के स्‍ट्रेन के खिलाफ कोवैक्‍सीन और कोविशील्ड का कारगर होना भारत के लिए बेहद अहम है। क्योंकि यूके स्‍ट्रेन को पहले की तुलना में 70 गुना ज्‍यादा संक्रमित करने वाला बताया गया है। भारत में इसके संक्रमण के कई मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में दोनों वैक्सीन एक साथ मिलकर इसे रोकने में मददगार साबित हो सकती है।