भारत ने पाकिस्तान को UNHRC में जमकर लगाई लताड़, जम्मू-कश्मीर मामले में टांग अड़ाने पर OIC को भी दिया करारा जवाब

|

Updated: 02 Mar 2021, 06:38 PM IST

HIGHLIGHTS

  • भारत ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग (UNHRC) में पाकिस्तान को एक बार फिर से लताड़ लगाते हुए बेनकाब किया है।
  • जम्मू-कश्मीर मामले में जब-तब टांग अड़ाने को लेकर भी इस्लामिक देशों के संगठन OIC को करारा जवाब दिया है।

नई दिल्ली। आतंकवाद के मामले पर दुनिया भर में बेनकाब हो चुके पाकिस्तान को एक बार फिर से भारत ने आइना दिखाया है। भारत ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग (UNHRC) में पाकिस्तान को एक बार फिर से लताड़ लगाते हुए बेनकाब किया है। वहीं जम्मू-कश्मीर मामले में जब-तब टांग अड़ाने को लेकर भी इस्लामिक देशों के संगठन OIC को करारा जवाब दिया है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन के प्रथम सचिव ने बताया कि पाकिस्तान में किस तरह से मानवाधिकारों का उल्लंघन किया जा रहा है और मुंह खोलने वालों के साथ कैसे बर्ताव किया जाता है। भारतीय प्रतिनिधि पवन कुमार बाधे ने कहा कि पाकिस्तान में सरकार या सेना के खिलाफ मुंह खोलने वालों को सुरक्षा एजेंसियां गायब करवा देती हैं। लोगों को हत्याएं की जा रही हैं और मनमाने तरीके से बंधक बनाया जा रहा है।

UNSC में भारत ने पाक को घेरा, कहा - कुछ देश ले रहे हैं प्रॉक्सी वार का सहारा

भारतीय मिशन के फर्स्ट सेक्रेटरी पवन कुमार बाधे ने कहा कि पाकिस्तानी नेताओं ने कई बार इस बात को स्वीकार किया है कि यह (पाकिस्तान) आतंकवादियों के उत्पदान की फैक्ट्री है। लेकिन पाकिस्तान ने हमेशा इस बात को नजरअंदाज किया है कि आतंकवाद मानवाधिकारों के उल्लंघन का सबसे खराब रूप है और आतंकवाद के समर्थक सबसे अधिक मानवाधिकारों को कुचल रहे हैं।

IOC को भी दिया करारा जवाब

पवन कुमार ने यूएनएचआरसी के मंच के दुरुपयोग को लेकर भी पाकिस्तान को जमकर फटकार लगाई और कहा कि पाकिस्तान जानबूझकर UNHRC के मंच का इस्तेमाल 'भारत के खिलाफ प्रॉपेगेंडा के लिए करता है। ताकि वह काउंसिल का ध्यान अपने देश के मानवाधिकार उल्लंघनों से भटका सके।

UNHRC में भारत का पाक को जवाब, 'कश्मीर का लालच छोड़ें, वो हमारा था और हमेशा रहेगा'

उन्होंने आगे कहा कि जम्मू-कश्मीर मामले पर भी इस्लामिक देशों के संगठन के टिप्पणी को खारिज करते हैं। पवन कुमार ने कहा हम OIC (इस्लामिक सहयोग संगठन) के बयान में केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के संदर्भ को खारिज करते हैं। OIC के पास जम्मू-कश्मीर से संबंधित मामलों पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है।

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है। उन्होंने खेद जताते हुए कहा कि OIC पाकिस्तान के जाल में फंस कर भारत विरोधी प्रॉपेगेंडा में खुद का इस्तेमाल होने दे रहा है।