राष्ट्रपति पद छोडऩे के बाद डोनाल्ड ट्रंप पहली बार फ्लोरिडा में देने वाले हैं भाषण, पूरी दुनिया की इस पर लगी है निगाह

|

Published: 24 Feb 2021, 11:09 AM IST

Highlights.
- अमरीकी चुनाव में हार के बाद एक के बाद एक कुछ ऐसी घटनाएं हुईं, जिससे ट्रंप की छवि को नुकसान हुआ
- फ्लोरिडा का यह कार्यक्रम दक्षिण पंथी समूह ने रखा गया है, ऐसें में ट्रंप का शामिल होना लोगों में दिलचस्पी पैदा कर रहा
- माना जा रहा है कि ट्रंप वर्ष 2024 के राष्ट्रपति पद के चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार के लिए अपना पक्ष रख सकते हैं

नई दिल्ली।

अमरीकी चुनाव हारने के बाद डोनाल्ड ट्रंप पर कई ऐसे आरोप लगे, जिससे उनकी छवि को काफी नुकसान हुआ। चाहे वह कैपिटल हिल में हुई हिंसा हो या उन पर लगा दूसरा महाभियोग। हालांकि, यह उनकी अच्छी किस्मत कही जाएगी कि सीनेट ने उनके खिलाफ आरोप को गंभीरता से नहीं लिया और वह बरी हो गए। अब इन सबके बीच ट्रंप इसी हफ्ते में एक कार्यक्रम को संबोधित करने वाले हैं।

बेशक, फ्लोरिडा में होने वाला यह दक्षिणपंथी कार्यक्रम काफी महत्वपूर्ण है। ट्रंप में इसमें बोलने वाले हैं, इसलिए लोगों में दिलचस्पी और अधिक है। यह भी देखा जा रहा है कि कैपिटल हिल की हिंसक घटना के बाद अपने समर्थकों को वह क्या संदेश देते हैं। मगर माना जा रहा है कि कंजर्वेटिव पॉलिटिकल एक्शन कांफ्रेंस (सीपीएसी) में भाषण देने वाले ट्रंप इसमें भी राष्ट्रपति जो बिडेन के खिलाफ खुद को मजबूत साबित करने से नहीं चूकेंगे।

कहा यह भी जा रहा है कि इस कार्यक्रम में ट्रंप के नजदीकी सिपहसालार और अमरीका के पूर्व उप राष्ट्रपति माइक पेंस अपना संबोधन नहीं देंगे। ट्रंप के करीबी कुछ लोगों का कहना है कि इस कार्यक्रम में ट्रंप वर्ष 2024 के लिए खुद को रिपब्लिक पार्टी का उम्मीदवार घोषित करने पर जोर देंगे। यही नहीं, महाभियोग और चुनाव में सहयोग नहीं मिलने पर ट्रंप अपनी ही पार्टी के कुछ नेताओं पर निशाना साध चुके हैं, ऐसे में यह कार्यक्रम और ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है कि वह पार्टी के नेताओं पर अपनी क्या राय देंगे।

यह भी माना जा रहा है कि ट्रंप इस कार्यक्रम में अपने अभियान मेक अमरीका ग्रेट अगेन को नए सिरे से आक्रामक बनाने के लिए कुछ नई रणनीति का इजहार कर सकते हैं। ट्विटर और व्हाइट हाउस से दूर होने के बाद भी वह कमजोर नहीं हुए हैं, ऐसा कुछ संदेश देंगे। इसके अलावा वर्ष 2022 के सीनेट को लेकर भी तैयारियां जोरशोर से हो रही हैं और ट्रंप इसमें भी अपनी भूमिका बनाए रखना चाहेंगे।