Pakistan में अलग सिंधुदेश की मांग तेज, प्रदर्शनकारियों ने लहराए मोदी के पोस्टर

|

Updated: 18 Jan 2021, 10:18 AM IST

  • सिंधुदेश के समर्थकों ने दुनियाभर के नेताओं से मांगी मदद।
  • सिंध प्रांत के जामशोरो प्रदर्शन में भारी संख्या में लोग शामिल हुए।

नई दिल्ली। पाकिस्‍तान सरकार की दमनकारी नीतियों के खिलाफ अब बलूचिस्तान के बाद सिंधु प्रांत में भी अलग सिंधुदेश की मांग ने गति पकड़ ली है। पाक के सिंधु प्रांत में सिंधियों का विरोध प्रदर्शन तेजी से बढ़ता जा रहा है। सालों से अलग सिंधु देश की मांग कर रहे सिंधियों ने अब भारत सहित दुनियाभर के नेताओं से खुलकर मदद मांगी है। समर्थकों ने सिंधु प्रांत के जामशोरो में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पोस्टर लहराए।

सिंधी राष्ट्रवाद के संस्थापकों में से एक जीएम सैयद की 117वीं जयंती पर आयोजित एक विशाल आजादी समर्थक रैली में प्रदर्शनकारी सिंधुदेश की स्वतंत्रता के लिए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य विश्व के नेताओं के पोस्‍टर हाथों में लिए हुए नजर आए। विशाल रैली के दौरान लोगों ने आजादी समर्थक नारे भी लगाए। इस रैली में शामिल लोगों ने कहा कि सिंध प्रांत सिंधु घाटी सभ्यता और वैदिक धर्म का घर है।

जेई सिंध मुत्तहिदा महाज के अध्यक्ष शफी मुहम्मद बुरफात ने प्रदर्शन के दौरान कहा कि सभी बर्बर हमलों के बीच सिंध ने सभी युगों में एक अलग, बहुलवादी, सहिष्णु और सामंजस्यपूर्ण समाज के रूप में अपनी अलग ऐतिहासिक और सांस्कृतिक पहचान को बनाए रखा है। विदेशी और देशी लोगों की भाषाओं और विचारों ने न केवल एक-दूसरे को प्रभावित किया है बल्कि मानव सभ्यता के सामान्य संदेश को स्वीकार किया है।