अमरीका की खुफिया रिपोर्ट में बड़ा दावा, पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या की हत्या से जुड़ा राज खोला

|

Updated: 26 Feb 2021, 07:54 PM IST

साल 2018 में पत्रकार खशोगी की हत्या हुई थी

यह हत्या क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Crown Prince Mohammad Bin Salman) के इशारे पर कराई गई थी

नई दिल्ली। पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या का मामला एक बार फिर सुर्खियों में है, इस बार खबर प्रकाशित हुई है अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट में और इस खबर के लिए हवाला दिया है नेशनल इंटेलिजेंस निदेशक ऑफिस का जिसमें कहा गया है कि इस खुफिया रिपोर्ट को अमेरिका सार्वजनिक करने वाला है। खबरों की माने तो अमेरिका अगले हफ्ते इस खुफिया रिपोर्ट को सार्वजनिक कर सकता है। माना यह जा रहा है कि अमेरिका के ऐसा करने से अमेरिका (America) के रिश्ते सऊदी अरब (Saudi Arabia) से बिगड़ सकते हैं। आपको बतादें सन 2018 में पत्रकार खशोगी की हत्या हुई थी, जिसमें हत्या का शक क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Crown Prince Mohammad Bin Salman) के इशारे पर कराई गई थी। नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन प्रशासन अगले हफ्ते इस खुफिया रिपोर्ट को सारवजनिक करने का मन बना रहा है।

अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट ने इस खुफिया रिपोर्ट पर एक खबर प्रकाशित की है और इसके लिए हवाला दिया है, अमेरिका के नेशनल इंटेलिजेंस निदेशक ऑफिस का जिसने यह रिपोर्ट तैयार की है। और अनुमान लगाया जा रहा है कि इस रिपोर्ट को अगले हफ्ते सार्वजनिक किया जा सकता है। हालांकि व्हाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी जेन पास्की ने इस विषय में किसी भी टिप्पणी से इनकार किया है। उन्होंने इसके खुलासे की टाइमिंग से खुद को अनजान बताया है। आपको बतादें पत्रकार खशोगी वॉशिंगटन पोस्ट के लिए अपनी सेवाएं देते हैं। वे अपने काम के प्रति इतने वफादार थे कि वे सरकार की आलोचना करने से भी नहीं डरते थे। 2018 में वे इस्तांबुल में सऊदी दूतावास में कुछ कागज लेने गए तो उन्हें नशीला पदार्थ दे कर उनकी हत्या करदी गई थी।

 

अमेरिका के रुख में नहीं आया बदलाव

सऊदी अरब के साथ रिश्तों को लेकर नवनिर्वाचित अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन भी अपना नज़रिया साफ कर चुके हैं। उन्होंने साफ किया कि इसमें कोई बदलाव नहीं होगा। सउदी अरब में क्राउन प्रिंस को देश का शासक माना जाता है, पर अमेरिका अपनी नीति सिर्फ समकक्षों से बातचीत के पक्ष में है। इस बात को लेकर बाइडेन प्रशासन ने साफ कर दिया है कि बात मोहम्मद बिन सलमान से नहीं बल्कि उनके पिता व शासक सलमान बिन अब्दुलजीज से होगी।