ब्रिटेन में कोरोना का हाहाकार, 1918 के स्पेनिश फ्लू के बाद हुई सबसे ज्यादा मौतें

|

Published: 14 Jan 2021, 06:07 PM IST

एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020 में इंग्लैंड और वेल्स में 6 लाख 8 हजार से अधिक लोगों की मौत हुई है। इससे पहले यहां साल 1918 में स्पैनिश फ्लू की वजह से इससे ज्यादा लोग मरे थे।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है। हालांकि अब वायरस का संक्रमण पहले की तुलना में कम जरूर हुआ लेकिन इस महामारी ने अबतक 20 लाख के करीब लोगों की जान ले ली है। वहीं ब्रिटेन के इंग्लैंड और वेल्स में पिछले एक साल में कोरोना की वजह से जितने लोग मरे हैं उतनी मौतें यहां पिछले एक शताब्दी में नहीं हुई।

Covid New Strain: भारत में तेजी से बढ़ रहा कोरोना का नया स्ट्रेन, इस शहर में मिले सबसे अधिक केस

मेल ऑनलाइन के एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020 में इंग्लैंड और वेल्स में 6 लाख 8 हजार से अधिक लोगों की मौत हुई है। इससे पहले यहां साल 1918 में स्पैनिश फ्लू की वजह से इससे ज्यादा लोग मरे थे।

स्पैनिश फ्लू के बाद से ही इंग्लैंड में हर साल मरने वालों के आंकड़ें जारी किए जाते हैं।इन आंकड़ों के मुताबिक साल 1918 में स्पैनिश फ्लू के चलते ये संख्या 6 लाख 11 हजार 861 थी। इसके बाद साल 2020 में इंग्लैंड और वेल्स में 6 लाख 8 हजार से अधिक लोगों की मौत हुई। वहीं साल 1940 में जर्मनी के साथ युद्ध के चलते भी ब्रिटेन में 5 लाख 90 हजार लोगों की मौत हुई थी।

रिपोर्ट के मुताबिक यूनाइडेट किंगडम में कोरोना की वजह से 1 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। इतना ही नहीं आने वाले चार हफ्तों में ब्रिटेन में कोरोना वायरस से 25 हजार लोगों की मौत हो सकती है।

यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंजलिया के प्रोफेसर के मुताबिक कोरोना की वैक्सीन तो आ चुकी है लेकिन ये नहीं पता लगा सकते कि ये कितना फायदेमंद होगी और कितने लोगों को इस महामारी से बचाएगी। हम मरने वाले लोगों का आंकड़ा नहीं जान सकते हैं।

सावधान! ऑनलाइन बेची जा रही है नकली कोरोना वैक्सीन, सरकार ने दी ये चेतावनी

बता दें ब्रिटेन में कोरोना टीकारण शुरू हो चुका है। यहां अगले 30 दिनों में 70 साल से अधिक उम्र वाले बुजुर्गों, एनएचएस स्टाफ, केयर होम स्टाफ और वर्कर्स और इसके अलावा कोरोना वायरस पॉजिटिव लोगों को वैक्सीन की डोज लगा दी जाएगी।जबकि अब तक 20 लाख से अधिक लोगों को कोरोना वैक्सीन दी जा चुकी है।