21 अक्टूबर को लाल किला में पीएम मोदी फहराएंगे तिरंगा, आजाद हिन्द फौज की 75वीं वर्षगांठ में करेंगे शिरकत

|

Published: 16 Oct 2018, 02:58 PM IST

मोदी सरकार नेताजी सुभाष चंद्र बोस की ओर से आजाद हिंद फौज की स्थापना के 75वीं वर्षगांठ को यादगार बनाने के लिए लाल किला में एक भव्य कार्यक्रम करेगी।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21 अक्टूबर को लाल किला में एक बार फिर से तिरंगा फहराएंगे। दरअसल मोदी सरकार नेताजी सुभाष चंद्र बोस की ओर से आजाद हिंद फौज की स्थापना के 75वीं वर्षगांठ को यादगार बनाने के लिए लाल किला में एक भव्य कार्यक्रम करेगी। इस कार्यक्रम में पीएम मोदी तिरंगा फहराएंगे। साथ ही आजाद हिन्द फौज म्यूजियम का भी उद्घाटन करेंगे। इस विशेष अवसर पर सेवानिवृत सैन्य अधिकारी और आजाद हिन्द फौज से जुड़े रहे कई हस्तियां भी मौजूद रहेंगे। इनमें से रामगोपाल, परमानंद, जगराम, जागीर सिंह, लालती राम जैसे स्वतंत्रता सेनानी शामिल हैं।

सरदार पटेल की सबसे ऊंची प्रतिमा से राजनीति चमकाएगी अपना दल, वाराणसी से वड़ोदरा के लिए पूरी ट्रेन बुक

पोर्ट ब्लेयर में भी फहराएंगे तिरंगा

आपको बता दें कि पीएम मोदी 21अक्टूबर के बाद 30 दिसंबर को अंडमान निकोबार की राजधानी पोर्ट ब्लेयर में 150 फीट ऊंचा तिरंगा फहराएंगे। बता दें कि सुभाष चंद्र बोस ने 30 दिसबंर 1943 को पहली बार भारतीय जमीन पर सबसे पहले आजाद हिन्द फौज का तिरंगा फहराया था। इस ऐतिहासिक पल के 75 वर्ष पूरे होने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में पीएम मोदी शिरकत करेंगे और 150 फीट ऊंचा तिरंगा भी फहराएंगे। इसके अलावे नेताजी की याद में एक डाक टिकट और सिक्का भी जारी करेंगे। साथ ही सेलुलर जेल भी जाएंगे।

देश के सबसे पुराने छात्रसंघ पर कब्जे के लिए यों नहीं होती जोर आजमाइश,यहाँ जीतने वालों ने फहराया है लाल किले पर तिरंगा

आजाद हिन्द फौज की स्थापना

आपको बता दें कि 75 वर्ष पहले 21 अक्टूबर 1943 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने सिंगापुर में प्रांतीय आजाद हिन्द सरकार की स्थापना की थी। नेताजी के इस संगठन को विश्व के 11 देशों ने मान्यता दी थी। आजाद हिन्द सरकार ने कई देशों में अपने दूतावास भी खोले थे। बाद में भारत की आजादी की लड़ाई में आजाद हिन्द फौज ने अहम भूमिका निभाई थी।

Related Stories