विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर पीएम मोदी कार्यक्रम को करेंगे संबोधित, जैव ईंधन को मिलेगा बढ़ावा

|

Published: 05 Jun 2021, 08:30 AM IST

यह कार्यक्रम पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय और पर्यावरण,वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित होगा।

नई दिल्ली। विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर शनिवार यानी आज पीएम नरेंद्र मोदी सुबह 11 बजे एक कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जारिए भाग लेंगे। यह कार्यक्रम पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय और पर्यावरण,वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित होगा। इस वर्ष के कार्यक्रम का विषय बेहतर पर्यावरण के लिए जैव ईंधन को बढ़ावा देना है।

Read More: पीएम मोदी ने की COVID-19 टीकाकरण अभियान की समीक्षा, कहा- वैक्सीन की बर्बादी न करें

किसानों के अनुभवों पर करेंगे बातचीत

इस कार्यक्रम के दौरान, पीएम भारत में 2020-2025 के दौरान इथेनाल सम्मिश्रण से संबंधित योजना के बारे में विशेषज्ञ समिति की एक रिपोर्ट जारी करेंगे। पीएम मोदी पुणे में तीन स्थानों पर ई 100 के वितरण स्टेशनों की एक पायलट परियोजना की शुरूआत करने वाले हैं। पीएम इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल और संपीड़ित बायोगैस कार्यक्रमों के जरिए किसानों के अनुभवों के बारे में जानकारी लेंगे और उनसे बातचीत भी करेंगे।

भारत सरकार तेल कंपनियों को एक अप्रैल 2023 से इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल को इथेनॉल की 20 प्रतिशत तक की प्रतिशतता के साथ बेचने के साथ इथेनॉल मिश्रणों ई-12 और ई-15 से जुड़े बीआईएस विनिर्देश के बारे में अधिसूचना जारी कर रही है।

1972 में की गई थी इस दिवस की घोषणा

सन 1972 में संयुक्त राष्ट्र संघ की आरे से वैश्विक स्तरपर पर्यावरण प्रदूषण की समस्या और चिंताओं को लेकर विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरूआत हुई थी। इसकी पहल स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में हुई। यहां दुनिया का पहला पर्यावरण सम्मेलन था, जिसमें 119 देश शामिल हुए थे। पहले पर्यावरण दिवस पर भारत की पूर्व पीएम इंदिरा गांधी ने भारत की प्रकृति और पर्यावरण को लेकर चिंताएं जाहिर की थीं।

Read More: केंद्र सरकार की चेतावनी, बेहद तेजी से चरम पर पहुंच जाएगी कोरोना की अगली लहर अगर

इसी सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) की नींव रखी गई। हर साल 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाए जाने का संकल्प लिया जाता है। विश्व पर्यावरण दिवस का उद्देश्य दुनियाभर के नागरिकों को पर्यावरण प्रदूषण की चिंताओं से अवगत कराना और प्रकृति व पर्यावरण को लेकर जागरूक करना है।