Cyclone Nisarga: बिपिन रावत ने तीनों सेना प्रमुखों के साथ बुलाई बैठक, परमाणु संयंत्रों की सुरक्षा पर होगी चर्चा

|

Published: 03 Jun 2020, 12:46 PM IST

  • Cyclone Nisarga के खतरे के बीच CDS Bipin Rawat ने बुलाई अहम बैठक
  • Nuclear Plants की सुरक्षा को लेकर तीनों सेना प्रमुखों से कर सकते हैं चर्चा
  • पालघर में देश का सबसे पुराना तारापुर एटॉमिक पॉवर प्लांट है

नई दिल्ली। चक्रवाती तूफान निसर्ग ( Cyclone Nisarga ) ने अपनी रफ्तार पकड़ ली है। 13 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से निसर्ग मुंबई ( Mumbai ) की तरफ बढ़ रहा है। इस बीच चक्रवाती तूफान से निपटने के लिए NDRF की तमाम टीमें तैनात कर दी गई है। वहीं बढ़ते खतरे के बीच चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ ( CDS ) जनरल बिपिन रावत ( Bipin Rawat ) ने एक अहम बैठक बुलाई है। इस बैठक में तीनों सेना के अध्यक्षों के साथ चक्रवाती तूफान को लेकर चर्चा हो सकती है।

दरअसल तूफान के चलते मुंबई के आस-पास तटीय पालघर ( Palghar ) और रायगढ़ ( Raigarh ) जिलों में स्थित रासायनिक ( Chemical ) और परमाणु ऊर्जा संयंत्रों ( Atomic Power Plant ) की सुरक्षा के लिए पर्याप्त एहतियात बरती जा रही है। ऐसे में बिपिन रावत की बैठक में परमाणु संयंत्रों ( Nuclear Plant ) की सुरक्षा अहम मुद्दा हो सकता है। इसके साथ मुंबई में बाढ़ के खतरे को देखते हुए भी सेना की तैयारियों और उनकी रणनीति पर चर्चा संभव है।

Cyclone Nisarga के बढ़ती रफ्तार के बीच मुंबई पर मंडराया बाढ़ का खतरा, बीएमसी ने संभाला मोर्चा

कोरोना संकट के बीच बिहार में चुनावी हलचल, अमित शाह की रैली को लेकर तेजस्वी यादव ने कह दी बड़ी बात

मुंबई ( Mumbai ) पर मंडरा रहे पहले चक्रवाती तूफान के खतरे के बीच सेना भी अलर्ट हो गई है। जनरल बिपिन रावत ने निसर्ग के खतरे को देखते हुए तीनों सेना अध्यक्षों के साथ अहम बैठक का फैसला लिया है। दरअसल महाराष्ट्र मंगलवार देर शाम से भारी बारिश भी शुरू हो गई। इस तूफान से पालघर और रायगढ़ स्थित केमिकल और परमाणु संयत्र पर भी खतरा उत्पन्न हो गया है।

इनकी सुरक्षा के लिए सावधानियां बरती जा रही हैं। आपको बता दें कि पालघर में देश का सबसे पुराना तारापुर एटॉमिक पॉवर प्लांट है। हवा की रफ्तार 100-120 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी। पूरे रायगढ़, मुंबई, ठाणे, पालघर में भारी से भारी वर्षा की संभावना है। ऐसे में इन संयंत्रों की सुरक्षा को लेकर भी बिपिन रावत अहम चर्चा कर सकते हैं।

बता दें कि महाराष्ट्र पहले ही कोरोना वायरस के बड़े संकट से जूझ रहा है। ऐसे में तूफान के चलते बिजली आपूर्ति के बाधित होने या फिर जल जमाव जैसी स्थितियों से निपटने में सेना की भूमिका को लेकर जनरल बिपिन रावत अहम चर्चा कर सकते हैं।

आपको बता दें कि इससे पहले केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से वीडियो कॉन्फ्रेंसे के जरिए बात की और किसी भी स्थिति से निपटने में राज्य की तैयारियों का जायजा लिया।

अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल ( NDRF ) की दस इकाइयों को संवेदनशील जिलों में तैनात गया है, जबकि छह अन्य को तैयार रहने को कहा गया है।