सावन के दूसरे सोमवार शिवालयों में उमड़ा भक्तों का सैलाब, कोरोना की तीसरी लहर से मुक्ति की कामना

|

Updated: 02 Aug 2021, 11:11 AM IST

श्रावण मास के दूसरे सोमवार ( Second Monday of Savan ) मंदिरों में उमड़ा शिवभक्तों का सैलाब लोगों ने भगवान का अभिषेक कर मांगा आशीर्वाद, मंदिरों में की गई कोरोना से मुक्ति की प्रार्थना

मेरठ . श्रावण मास के दूसरे सोमवार को शिवालयों में शिवभक्तों की भारी भीड़ उमड़ी। सुबह चार बजे से ही शिवालयों में अभिषेक की तैयारियां शुरू हो गई थी। मेरठ के प्रसिद्ध औघडनाथ मंदिर और सदर स्थित विल्वेश्वर महादेव मंदिर में भक्तों की पांच बजे काफी लंबी लाइनें लग गई। शिवभक्तों ने भगवान शिव की पूजा कर देश और खुद को कोरोना की तीसरी लहर से मुक्ति की कामना की। मंदिरों में कोरोना से मुक्ति की प्रार्थना की गई।

यह भी पढ़ें: खतरे के निशान की ओर बढ़ रही गंगा, शवदाह स्थल जलमग्न, नौका संचालन बंद

ज्योतिष के मुताबिक इस बार श्रावण मास के दूसरे सोमवार ( Savan Second Monday ) को नवमी तिथि होने के चलते सोमवार का महत्व और भी बढ़ गया है। आज ही के दिन कृत्तिका नक्षत्र भी लग रहा है। चंद्रमा वृषभ राशि में गोचर करेगा, जहां पर राहु पहले से ही विराजमान है। राहु और चंद्रमा से इस दिन ग्रहण योग का निर्माण हो रहा है जिससे इस सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होगी। शिवभक्तों ने आज सुबह-सुबह उठकर स्नान इत्यादी कर व्रत करने का संकल्प लिया। भगवान शिव पर गंगाजल से अभिषक किया। इसके साथ माता पार्वती और नंदी जी की भी पूजा की गई। कुछ शिवभक्तों ने भोलेनाथ पर पंचामृत से अभिषेक किया। बेलपत्र, भांग, धतूरा, चंदन, अक्षत चढ़ाया। इसके बाद शिवाष्टक या शिव चालीसा का पाठ किया।

मंदिरों के बाहर बेलपत्र और फूल बेचने वालों की रही चांदी
शिवमंदिरों के बाहर बेलपत्र और फूल बेचने वालों की चांदी रही। लोगों ने शिवलिंग पर चढ़ाने के लिए बेलपत्र और फूल खरीदे। वहीं बेल और धतूरा की भी खूब बिक्री हुई। लोगों ने पांच रुपये में पांच बेलपत्र खरीदे और बेल भी आज काफी बढ़े दामों में मिला। शिव पर चढ़ाने के लिए कच्चा बेल 11 रुपये से लेकर 21 रुपये तक में मिला।

काली पल्टन मंदिर में लगी शिवभक्तों की कतारें
सावन के दूसरे सोमवार को छावनी स्थित काली पल्टन मंदिर में शिवभक्तों की कतारें लगी रही। मंदिर समिति ने सुबह पांच बजे ही मंदिर के कपाट खोल दिए थे लेकिन पट खुलने के पहले से ही लोगों की भीड़ मंदिर के बाहर एकत्र हो गई थी। मंदिर के कपाट खुलते ही लोग शिव के दर्शन के लिए लाइन में लगे और पारंपरागत तरीके से शिव की पूजा-अर्चना की।

यह भी पढ़ें: बिल्डर्स के खिलाफ फूटा फ्लैट बायर्स का गुस्सा, मनमानी के खिलाफ सड़क पर उतरे आधा दर्जन सोसाइटी के लोग

यह भी पढ़ें: नाबालिग लड़की से मुस्लिम युवक ने किया रेप, गर्भवती होने पर इस्लाम धर्म अपनाने का दबाव