युवाओं को नौकरी देने के लिए आईटीआई में लगेगा विशाल मेला, निखारा जाएगा कौशल

|

Published: 20 Sep 2021, 05:00 PM IST

मेरठ आईटीआई नोडल अधिकारी पीपी अत्री ने बताया कि राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों और 2969 निजी संस्थानों के विद्यार्थियों को अप्रेंटिस के इस मेले में शामिल करने की व्यवस्था करने के निदेश दिए गए हैं।

मेरठ. बेरोजगार युवाओं को अधिक से अधिक नौकरी देने की सरकार ने ऐसी योजना बनाई है कि जिसमें मेरठ सहित प्रदेश के सभी जिलों के आईटीआई में बेरोजगार मेला लगाया जाएगा। जिसमें अप्रेंटिसशिप देकर एक दिन में दो लाख युवकों के हुनर को निखारा जाएगा। इसके पीछे सरकार की मंशा बेरोजगारों को अधिक से अधिक रोजगार के लिए तैयार कर उनका हुनर समाज के काम आने की है। इसे बेरोजगार के खिलाफ एक सापेक्ष और बड़ा कदम माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें : साहब! ‘बेटी है बीमार, घर में खाने और दूध वाले को देने को पैसे नहीं, पति छिपकर बैठा हरिद्वार’

औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में आइटीआइ की पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों के कौशल को निखारने के लिए चार अक्टूबर को वृहद अप्रेंटिसशिप मेला लगेगा। मेरठ सहित प्रदेश के सभी जिलों में लगने वाले मेले के माध्यम से एक दिन में दो लाख युवाओं को अप्रेंटिसशिप देने का लक्ष्य रखा गया है। इसके आयोजन के लिए जिले के राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों के प्रधानाचार्य को नोडल अधिकारी बनाया गया है।

मेरठ आईटीआई नोडल अधिकारी पीपी अत्री ने बताया कि मेरठ समेत सूबे की सभी 305 राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों और 2969 निजी संस्थानों के विद्यार्थियों को अप्रेंटिस के इस मेले में शामिल करने की व्यवस्था करने के निदेश दिए गए हैं। कौशल विकास विभाग के जिला प्रबंधकों को भी इस वृहद मेले से जोड़ा जाएगा।

उन्होंने बताया कि जिला उद्योग केंद्रों के माध्यम से पंजीकृत उद्योगों में आइटीआइ पास को अप्रेंटिस का मौका देकर उनके अंदर औद्योगिक समझ को बढ़ाने का प्रयास किया जाएगा। मेरठ में भी ऐसे युवाओं को औद्योगिक क्षेत्रों में भेजकर प्रेक्टिकल करने का मौका दिया जाएगा। कोरोना संक्रमण की वजह से अप्रेंटिस के लिए युवा आने से कतरा रहे थे। अब सामान्य स्थिति होने पर आयोजन हो रहा है। लघु, सूक्ष्म, मध्यम व उद्यम प्रोत्साहन विभाग की ओर से एमएसएमई को बढ़ावा देने का प्रयास किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि सरकार ने सभी जिला उद्योग केंद्रों के माध्यम से संचालित निजी औद्योगिक इकाइयों को भी इसमे शामिल करने की अनिवार्यता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। अभी तक निजी संस्थान अप्रेंटिस को लेकर मनमानी करते थे। एक दिन में वृहद मेला लगने से युवाओं को फायदा होगा और उनके अंदर तकनीक का विकास होगा।

BY: KP Tripathi

यह भी पढ़ें : यूपीसीए की सूची में मेरठ के पांच खिलाड़ी शामिल, दिखाएंगे वीनू मांकड़ ट्रॉफी में दम