मथुरा में बनेगा यूपी का सबसे बड़ा पार्क, लगाये जाएंगे भगवान श्रीकृष्ण के पंसदीदा पौधे, ईको रेस्टोरेशन समेत मिलेंगी कई सुविधाएं

|

Published: 30 Jul 2021, 08:52 AM IST

Saubhari Van Park में वन विभाग द्वारा भगवान श्रीकृष्ण की प्रिय प्रजातियों के 76,875 पौधों का वृक्षारोपण किया जाएगा।

मथुरा. जनपद मथुरा में वृन्दावन के पास सुनरख गांव के पास सौभरि वन (नगर वन) (Saubhari Van Park ) विकसित होगा। यह सौभरि वन लगभग 130 हेक्टेयर जमीन बनेगा और यहां वन विभाग द्वारा भगवान श्रीकृष्ण की प्रिय प्रजातियों के 76,875 पौधों का वृक्षारोपण किया जाएगा। इसको लेकर उत्तर प्रदेश बृज तीर्थ विकास परिषद के अधिकारियों की बैठक हुई। बैठक में फैसला लिया गया कि वृन्दावन के गांव सुनरख के पास पौधों के रखरखाव के लिए चयनित स्थल पर प्रजाति के हिसाब से ब्लॉकों की कांटेदार तारों से बाड़बंदी की जाएगी। इसके साथ ही उस जगह पर खम्भों पर कांटेदार तार से घेराबंदी करके 4 वाच टावर भी बनाए जाएंगे। इसके साथ ही परियोजना से ही ईको रेस्टोरेशन, स्थानीय पर्यावरण स्थल का विकास होगा। जिनका काम मथुरा-वृन्दावन विकास प्राधिकरण कराएगा। सौभरि वन के लिए चयनित स्थल को जल्द ही अतिक्रमण से मुक्त कराने का काम भी शुरू होगा।

यूपी का सबसे बड़ा पार्क बनेगा

मथुरा-वृन्दावन के पास विकसित होने वाला यह सौभरि वन प्रदेश का सबसे बड़ा पार्क होगा। सौभरि वन वृन्दावन-मथुरा की इस परियोजना का काम स्थानीय जिला प्रशासन, उत्तर प्रदेश बृज तीर्थ विकास परिषद, मथुरा-वृन्दावन विकास प्राधिकरण और वन विभाग द्वारा सामूहिक रूप से किया जाएगा। वृन्दावन और मथुरा के विकास के लिए बनाई गई इस परियोजना का पर्यावरणीय, पौराणिक और धार्मिक महत्व भी है। इसके साथ ही परियोजना से ही ईको रेस्टोरेशन, स्थानीय पर्यावरण स्थल का विकास होगा। वहीं बंदरों की समस्या से भी निजात मिलेगी। भविष्य में इसी वन में बंदरों के रहने की भी व्यवस्था की जाएगी।

पार्क ऐतिहासिक रूप में काफी अहम

इसके अलावा परियोजना स्थल पर ही एक ओर कोसी ड्रेन और दूसरी ओर यमुना नदी है। सुनरख में आज भी सौभरि ऋषि का आश्रम है। आपको बता दें कि विष्णु पुराण, देवी भागवत पुराण और श्रीमद् भागवत पुराण के नवे स्कन्द के छठे अध्याय में भी सौभरि ऋषि के विषय में वर्णन है। बीच की यह जगह भगवान श्रीकृष्ण की कालीयदह दमन लीला और सौभरि ऋषि की तपोस्थली है। इसके चलते चयनित क्षेत्र पौराणिक, धार्मिक और ऐतिहासिक रूप में काफी अहम है।

यह भी पढ़ें: आत्‍मनिर्भर बनीं महिलाओं के खातों में ट्रांसफर होंगे 15 हजार रुपये, मुजफ्फरनगर में मकान की छत गिरने से तीन की मौत