शौचालय की राशि हस्तांतरित

|

Published: 02 Apr 2018, 10:28 AM IST

शौचालय की राशि हस्तांतरित

शौचालय की राशि हस्तांतरित

शौचालय की राशि हस्तांतरित
धरियावद स्वच्छत भारत मिशन के तहत पंचायत समिति की 28 ग्राम पंचायतों में शौचालय निर्माण करवाने वाले 702 लाभार्थियों को शौचालय भुगतान राशि शनिवार को धरियावद पंचायत समिति की ओर से ऑनलाइन उनके खातों में हस्तांतरिक कर दी गई है।
विकास अधिकारी रमेशकुमार धनदें ने बताया कि सबसे अधिक झडौली एवं चरी पंचायत में क्रमश 88 एवं 77 लाभार्थियों को राशि हस्तांतरित की गई हैं। उल्लेखनीय हैं कि शौचालय निर्माण के 8 माह बाद भीं कई पंचायतों में राशि भुगतान नहीं होने पर एक दिन पूर्व सदन बैैठक में सदन सदस्यों ने सीओ वीसी गर्ग के समक्ष समस्या रखी थी। जिस पर सीओ गर्ग के निर्देश पर 28 ग्राम पंचायतों के लाभार्थियों को शौचालय की बकाया राशि ऑनलाइन हस्तांतरित की गई हैं।
========================================
आगजनी की बढ़ रही घटनाएं
कहीं मकानों तो कहीं खेतों में लग रही आग
बचाव के लिए सावधानी बरतने की सलाह
प्रतापगढ़
जिले में गत कुछ दिनों से आगजनी की घटनाएं बढ़ गई है।ऐसे में जहां ग्रामीणों और किसानों को भी सावधानी जरूरी है। वहीं विद्युत निगम ने भी आमजन से सावधानी बरतने की सलाह है।
जिले में गत एक माह में ही एक दर्जन से अधिक आगजनी की घटनाएं हो चुकी है।इनमें विद्युत लाइनों में स्पार्किंग से फसलें जलना, मकान, बाड़े में आग लगना प्रमुख रहा है। आगजनी में पीडि़तों को काफी नुकसान हो रहा है। विद्युत लाइनों के नीचे फसलें संग्रहित नहीं रखने और अपने मकानों, बाड़े में खुले तार, कट लगे तारों से सुरक्षा को कुछ ध्यान रखा जाए तो दुर्घटनाओं से बचा जा सकता है।
यहां हुई आग की घटनाएं
जिले में एक माह में करीब एक दर्जन गांवों में आगजनी की घटनाएं हो चुकी है। इनमें लाखों रुपए का नुकसान भी हुआ है। धरियावद में दो गांवों में गेहूूं की फसल जली है। देवगढ़ क्षेत्र में दो मकानों में आग से सबकुछ जलकर राख हो गया। छोटीसादड़ी में तीन खेतों में फसलें जलकर राख हो गई। बारावरदा क्षेत्र में दो खेतों में आग से गेहूं की फसलें जल गई। इसी प्रकार अरनोद थाना क्षेत्र में दो गांवों में आग से फसलें जल गई। वहीं पीपलखूंट में एक मकान में और एक खेत में आग से नुकसान हो गया। इन स्थानों पर विद्युत लाइन में स्पार्किं से आग से नुकसान बताया गया है।

यह बरतें सावधानी
विद्युत निगम की ओर से विद्युत जनित दुर्घटनाओं पर अंकुश के लिए सावधानी बरतने की सलाह दी है।जिसमें मुख्य लाइन से सुरक्षित अंतराल रखा जाए। फसलों को खेत या खलिहान में एकत्रित करने के दौरान यह ध्यान रखा जाए कि ऊपर से विद्युत लाइन तो नहीं गुजर रही है। इसके साथ ही लाइन से दूरी पर ही फसलों को एकत्रित करें।घरों में खुले तारों का नहीं रहने दें। विद्युत लाइन की फीटिंग कराएं। जिस स्थान पर सीलन आती हो, वहां बोर्ड नहीं लगाएं।किसी भी वाहन को विद्युत लाइन के नीचे खड़े नहीं करें। झूलती लाइनों के बारे में निगम को सूचना दें। बारिश के समय करंट का अधिक खतरा रहता है।ऐसे में पोल के पास नहीं जाएं।

रखें सावधानी, निगम को सूचना दें
विद्युत जनित दुर्घटनाओं से बचने के लिए ग्रामीणों को सावधानियां रखना आवश्यक है।फसलों को एकत्रित करने के लिए विद्युत लाइनों को विशेषकर ध्यान रखा जाए। मकान में विद्युत तारों में कट नहीं हो और खुले नहीं रखने चाहिए।इसके अलावा भी सावधियों को रखना आवश्यक है।
आरसी शर्मा
अधीक्षण अभियंता, अविविनिलि, प्रतापगढ़
========================================