Gold Price: सस्ता सोना खरीदने का शानदार मौका, Modi सरकार ने आज से शुरू की ये स्कीम

|

Published: 01 Sep 2020, 12:26 PM IST

-अगर आप भी सस्ता सोना ( Gold Price ) खरीदने का मन बना रहे हैं, तो आपके के लिए मोदी सरकार ( Modi Government ) शानदार स्कीम लेकर आई है।
-सरकार ने आज से सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड ( Sovereign Gold Bonds ) के लिए सब्सक्रिप्शन की शुरुआत कर दी है। -सरकार की इस योजना में आप 4 सितंबर तक निवेश ( Buy a Cheap Gold Chain ) कर सकते हैं।
-आपको बता दें कि इस वित्त वर्ष की ये गोल्ड बॉन्ड की आखिरी सीरीज है।
-इस योजना के तहत आरबीआइ ( RBI ) ने 5,117 रुपये प्रति ग्राम का भाव रखा है।

नई दिल्ली।
अगर आप भी सस्ता सोना ( Gold Price ) खरीदने का मन बना रहे हैं, तो आपके के लिए मोदी सरकार ( Modi Government ) शानदार स्कीम लेकर आई है। सरकार ने आज से सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड ( Sovereign Gold Bonds ) के लिए सब्सक्रिप्शन की शुरुआत कर दी है। सरकार की इस योजना में आप 4 सितंबर तक निवेश ( Buy a Cheap Gold Chain ) कर सकते हैं। आपको बता दें कि इस वित्त वर्ष की ये गोल्ड बॉन्ड की आखिरी सीरीज है। आपके पास ये शानदार मौका है, क्योंकि इस समय सोने की कीमत रिकॉर्ड ऊंचे स्तर से करीब पांच हजार रुपये गिर चुकी है। इस योजना के तहत आरबीआइ ( RBI ) ने 5,117 रुपये प्रति ग्राम का भाव रखा है।

आज से बदल गए LPG, Bank, Aadhar, Toll, GST संबंधी ये नियम, आपकी जेब पर पड़ेगा असर

सस्ता मिलेगा सोना
गोल्ड बॉन्ड आपको फिजिकल गोल्ड से सस्ता पड़ेगा, क्योंकि सरकार डिजिटल भुगतान करने पर प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट भी दे रही है। इससे गोल्ड बांड की कीमत 5,067 रुपये प्रति ग्राम होगी। आपको कम से कम 500 रुपये प्रति 10 ग्राम छूट मिलेगी। इसकी किस्त 8 सितंबर को जारी की जाएगी।

क्या है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड?
सरकार ने फिजिकल गोल्ड की मांग में कमी लाने के लिए नवंबर, 2015 में यह स्कीम शुरू की थी। सॉवरेन गोल्ड बांड में निवेशक को फिजिकल रूप में सोना नहीं मिलता। इसमें आपको सोना खरीदने पर एक होल्डिंग सर्टिफिकेट जारी किया जाता है। यह फिजिकल गोल्ड से ज्यादा सुरक्षित होता है। सबसे अच्छी बात है कि इलेक्ट्रॉनिक रूप में होने की वजह से इसकी शुद्धता पर सवाल नहीं उठा सकते। गोल्ड बॉन्ड RBI की ओर से जारी किए जाते हैं।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड के फायदे
एक वित्त वर्ष में एक व्यक्ति अधिकतम 500 ग्राम गोल्ड बॉन्ड ही खरीद सकता है। जबकि न्यूनतम निवेश 1 ग्राम होना चाहिए। एक व्यक्ति, HUF अपने पास 4 किलो से ज्यादा गोल्ड बॉन्ड नहीं रख सकता है। इन बॉन्ड्स की अवधि 8 साल की होती है और 5वें साल के बाद से इसे निकाला जा सकता है।

Petrol Price में मामूली इजाफा, 6 महीने के उच्चतम स्तर पर Crude Oil Price

कैसे खरीदें गोल्ड बॉन्ड?
आप किसी भी बैंक से सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीद सकते हैं। इसके अलावा स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया ( SHCIL ) से भी खरीद सकते हैं। साथ ही डाकघरों, मान्यता प्राप्त एक्सचेंज से भी खरीदा जा सकता है। 31 अगस्त से 4 सितंबर के बीच गोल्ड बॉन्ड खरीद सकते हैं।