शेयर बाजार: अगले हफ्ते इन 5 बातों से तय होगी बाजार की दिशा

|

Published: 11 Mar 2018, 12:53 PM IST

अगले सप्ताह शेयर बाजार की चाल इन 5 चीजों से तय होगी।

नई दिल्ली। अगले सप्ताह शेयर बाजार की चाल घरेलू और वैश्विक व्यापक आर्थिक आंकड़े, प्रमुख कंपनियों की तीसरी तिमाही के नतीजे, वैश्विक बाजारों के रुख, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) और घरेलू संस्थापक निवेशकों (डीआईआई) द्वारा किए गए निवेश, डॉलर के खिलाफ रुपये की चाल और कच्चे तेल की कीमतों का प्रदर्शन मिलकर तय करेंगे।

औद्योगिक उत्पादन के आंकड़ें
उपभोक्ता मूल्य सूचकांक जनवरी में साल-दर-साल आधार पर 5.07 फीसदी रहा, जबकि दिसंबर (2017) में यह 5.21 फीसदी पर था। वहीं, देश के औद्योगिक उत्पादन के जनवरी के आंकड़े सोमवार (12 मार्च) को जारी किए जाएंगे। दिसंबर में औद्योगिक उत्पादन सूचकांक बढ़कर 7.1 फीसदी पर था, जबकि इसके पिछले महीने इसमें 8.8 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी।

बुधवार को थोक मूल्य सूचकांक के आंकड़ें
थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) पर आधारित मुद्रास्फीति का फरवरी का आंकड़ा बुधवार (14 मार्च) को जारी किया जाएगा। डब्ल्यूपीआई सूचकांक जनवरी में 2.84 फीसदी पर था, जबकि इसके पिछले महीने यह 3.58 फीसदी पर था। वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में नई दिल्ली में हुई अपनी 26वीं बैठक में ई-वे बिल का रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को आसान बनाया था और 1 अप्रैल से ई-वे बिल को लागू करने को मंजूरी प्रदान की थी।

इन आईपीओ पर रहेगी नजर
सरकारी रक्षा उपकरण निर्माता भारत डायनामिक्स (बीडीएल) का आईपीओ (आरंभिक सार्वजनिक निर्गम) मंगलवार (13 मार्च) को खुलेगा और गुरुवार (15 मार्च) को बंद होगा। निजी बैंक बंधन बैंक का आईपीओ गुरुवार (15 मार्च) को खुलेगा और 19 मार्च को बंद होगा।

मंगलवार को सीपीआई के आंकडें
वैश्विक मोर्चे पर, अमेरिका का उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) का फरवरी का आंकड़ा मंगलवार को जारी होगा। अमेरिका की खुदरा बिक्ररी का फरवरी का आंकड़ा बुधवार (14 मार्च) को जारी किया जाएगा।

हफ्ते में 2.17 फीसदी की गिरावट

मौजूदा सप्ताह में कमजोर वैश्विक संकेतो के बाद शेयर बाजार में गिरावट दर्ज की गर्इ. भारतीय बैंकिंग क्षेत्र में रोज हो रहे नए-नए घोटालों के खुलासे के कारण इस क्षेत्र की सेहत को लेकर छाई चिंता का प्रमुख योगदान रहा. पिछले महीने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में 12,600 करोड़ रुपये के घोटाले का खुलासा हुआ था, जिसका मुख्य आरोपी हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी जांच एजेंसियों की पकड़ से बाहर है. ट्रंप ने 2 मार्च को कहा था कि वे स्टील पर 25 फीसदी आयात शुल्क और अल्युमिनियम पर 10 फीसदी आयात शुल्क लगाएंगे, ताकि अमेरिकी उत्पादकों की सुरक्षा हो सके. निवेशकों को आशंका है कि ऐसी ही नीतियां दूसरे देश भी लागू कर सकते हैं, जिससे मुक्त कारोबार को बड़ा झटका लगेगा.