सरकार को उम्मीद, 80 फीसदी टैक्सपेयर्स अपनाएंगे नई टैक्स व्यवस्था

|

Updated: 08 Feb 2020, 12:55 PM IST

  • सरकार ने बजट से पहले किया था 5.78 करोड़ टैक्स पेयर्स का विश्लेषण
  • 69 फीसदी लोगों के अनुसार टैक्स की नई व्यवस्था में ज्यादा बचत की बात कही

नई दिल्ली। सरकार को उम्मीद है कि देश के 80 फीसदी टैक्सपेयर्स नई टैक्स व्यवस्था को चुनेंगे। बजट 2020 सरकार ने पुरानी व्यवस्था के साथ नई व्यवस्था भी दी है। जिसमें नए स्लैब भी जोड़े गए हैं। वहीं पांच लाख तक की आय कमाने वालों को टैक्स फ्री कर दिया है। वहीं नई व्यवस्था में से उन तमाम रियायतों को बाहर कर दिया गया है जो टैक्स चुकाने के दौरान दी जाती थीं। वैसे पुरानी टैक्स व्यवस्था में रियायतों को अभी कायम रखा गया है।

यह भी पढ़ेंः- विलय के बाद पीएनबी, यूबीआई और ओबीसी का बदला जाएगा नाम

टैक्सपेयर्स का किया गया था विश्लेषण
मुंबई में राजस्व सचिव अजय भूषण पांडे ने कहा कि देश के 80 फीसदी टैक्सपेयर्स कर नई प्रणाली को अपनाएंगे। उन्होंनेे जानकारी देते हुए कहा कि सरकार ने बजट से पहले 5.78 करोड़ टैक्सपेयर्स का विश्लेषण किया था। जिसमें 69 फीसदी लोगों के अनुसार टैक्स की नई व्यवस्था में ज्यादा बचत होने की बात कही थी। वहीं 11 फीसदी ने पुरानी व्यवस्था को पसंद किया था। बाकी 20 फीसदी ऐसे टैक्सपेयर्स ऐसे भी होंगे जो कागजी काम से बचना और नई व्यवस्था को चुनना चाहते होंगे। पांडे के अनुसार कंपनी टैक्स जब सितंबर में कटौती हुई तो उन्हें भी इसी प्रकार का विकल्प दिया गया और 90 फीसदी कंपनियों ने कम कर दर को लेकर छूट मुक्त व्यवस्था को अपनाया।

यह भी पढ़ेंः- लंदन की कोर्ट में रिश्तों की दुहाई, क्या अनिल की मदद नहीं करेंगे मां, पत्नी, बच्चे और भाई

यह है नई टैक्स व्यवस्था का प्रस्ताव
0 फीसदी - 5 लाख रुपए कमाई पर
10 फीसदी - 5-7.5 लाख रुपए कमाई पर
15 फीसदी - 7.5-10 लाख रुपए कमाई पर
20 फीसदी - 10-12.5 लाख रुपए कमाई पर
25 फीसदी - 12.5-15 लाख रुपए कमाई पर
30 फीसदी - 15 लाख रुपए और अधिक की कमाई पर

यह भी पढ़ेंः- Finance Minister ने बताया, LIC IPO लाने से किसको होगा फायदा?

मौजूदा समय में कुछ ऐसा है टैक्स स्लैब
2,50,000 तक की आय पर - 0 फीसदी
2,50,001 से 5 लाख तक की आय पर - 5 फीसदी
500001 से 10 लाख तक की आय पर - 20 फीसदी
1000001 लाख से अधिक - 30 फीसदी