Gold Rate Down : दशहरे से पहले 5800 रुपए सस्ता हुआ सोना, जानिए दीपावली तक कितने गिर सकते हैं दाम

|

Updated: 18 Oct 2020, 10:00 AM IST

  • 7 अगस्त के बाद से अब तक सोने की कीमत में 5827 रुपए प्रति दस ग्राम की गिरावट
  • चांदी के दाम में भी देखने को मिल चुकी है 18 हजार रुपए प्रति किलोग्राम की गिरावट

नई दिल्ली। बीते कुछ महीनों में चांदी और सोने की कीमत में उतार चढ़ाव का दौर देखने को मिल रहा है। वैसे रक्षाबंधन के बाद से सोना और चांदी के दाम में गिरावट का ही माहौल देखने को मिला हैं। जहां सोना 5800 रुपए प्रति दस ग्राम तक सस्ता हो चुका है। जबकि चांदी की कीमत में 18 हजार रुपए प्रति किलोग्राम की गिरावट देखने को मिल चुकी है। जानकारों की मानें तो आने वाले दिनों या यूं कहें कि दीपावली से पहले सोने और चांदी की कीमत में और भी गिरावट देखने को मिल सकती है। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर दीपावली तक सोना और चांदी कीमत किस तरह की देखने को मिल सकती है।

यह भी पढ़ेंः- Gold Rate : नवरात्र शुरू होने से एक दिन पहले सोना हुआ सस्ता, जानिए कितने कम हुए दाम

सोने की कीमत में भारी गिरावट देखने को मिली

- 7 अगस्त को सोना 56,379 रुपए प्रति दस ग्राम के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया था।
- शुक्रवार यानी 16 अक्टूबर को आखिरी कारोबारी दिन सोना 50,552 रुपए प्रति दस ग्राम पर बंद हुआ।
- 70 दिनों में सोने के दाम में 5827 रुपए प्रति दस ग्राम की गिरावट देखने को मिली है।
- 16 अक्टूबर को सोना 160 रुपए प्रति दस ग्राम तक सस्ता हुआ हुआ था।

यह भी पढ़ेंः- फेस्टिव सीजन से पहले Diesel Demand में इजाफा, जानिए कितने हो गए Petrol के दाम

चांदी की कीमत में भी गिरावट

- 7 अगस्त को चांदी 79,729 रुपए प्रति किलोग्राम के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई थी।
- शुक्रवार यानी 16 अक्टूबर को आखिरी कारोबारी दिन चांदी की कीमत 61,653 रुपए प्रति किलोग्राम पर बंद हुई।
- 70 दिनों में सोने के दाम में 18,076 रुपए प्रति दस ग्राम की गिरावट देखने को मिली है।
- 16 अक्टूबर को चांदी की कीमत में 118 रुपए प्रति किलोग्राम की तेजी देखने को मिली है।

यह भी पढ़ेंः- आपकी पसंदीदा कारों पर मिल रही है 8.5 लाख रुपए तक की छूट, जानिए नवरात्र में किस तरह के मिल रहे हैं ऑफर

और देखने को मिल सकती है गिरावट
जानकारों की मानें तो सोना और चांदी की कीमत में और गिरावट देखने को मिल सकती है। वास्तव में सोने और चांदी की कीमत अंतर्राष्ट्रीय कीमत के आधार पर तय होती है। मौजूदा समय में डॉलर का स्तर उंचा उठा हुआ है। अमरीका में चुनाव भी होने वाले हैं। ऐसे में डॉलर का स्तर उंचा रहने की वजह से सोना और चांदी के दाम दायरे में रह सकते हैं। इसके अलावा अमरीकी आंकड़े भी बेहतर आ रहे हैं। जिसकी वजह से शेयर बाजार में भी तेजी का माहौल बना हुआ है। ऐसे में आम निवेशकों का रुझान इक्विटी की ओर है। ऐसे में सोने की कीमत में थोड़ा दबाव रहने के आसार हैं।