शौली में मेला शुरू

|

Published: 30 Mar 2018, 10:17 AM IST

शौली में मेला शुरू

शौली में मेला शुरू

शौली में मेला शुरू
मोवाई निकटवर्ती शौली हनुमान मंदिर का तीन दिवसीय मेला शुरू हो गया है।यहां विभिन्न आयोजन किए जा रहे है। मेले में श्ुाक्रवार को महायज्ञ का आयोजन किया जाएगा। इस मौके पर महाप्रसादी की जाएगी।
किया पौधारोपण
करजू
निकटवर्ती हडमतिया जागीर में गुरुवार को ग्रामीणों एवं बजरंग दल के संयुक्त तत्वाधान में पौधारोपण किया गया। बजरंग दल प्रखंड प्रभारी नरेश जणवा ने बताया कि इस दौरान 51 पौधे लगाए गए। मंदिर प्रांगण में लाइट एवं डेकोरेशन का काम देर रात्रि तक चलता रहा। इस दौरान बजरंग दल के जगदीश जणवा, शिवनारायण धाकड़, प्रहलाद जणवा, विमलेश, दिनेश, घनश्याम, छोटीसादड़ी उपप्रधान रमेश गोपावत, पुरुषोत्तम सोनी बंबोरी, दिनेश माली, शांतिलाल जणवा सहित कई ग्रामीण एवं युवा उपस्थित रहे।
सालमगढ़
हनुमान जन्मोत्सव का होगा आयोजन सालमगढ़ के संकट मोचन हनुमान मंदिर पर हनुमान जन्मोत्सव को लेकर शुक्रवार को वाहन रैली व शनिवार को हनुमान जन्मोत्सव पर हवन, शोभायात्रा का आयोजन किया जाएगा। इसकी तैयारियां ग्रामीणों द्वारा की जा रही है।
==========================
कांठल के भूगर्भ में पेट्रोलियम की जांच
एमपी के निकटवर्ती प्रतापगढ़ के गांवों में हो रहा शोध
मोखमपुरा
ऑयल एण्ड नेचुरल गैस कार्पोरेशन(ओएनजीसी) की एक टीम की ओर से क्रुड ऑइल के लिए शोध में इन दिनों प्रतापगढ़ जिले के मंदसौर से सटे गांवों के खेतों में परीक्षण किया जा रहा है। यहां टीम की ओर से भूगर्भ में पेट्रोलियम की जांच की जा रही है।टीम की ओर से यहां के खेतों में ड्रिलिंग की जा रही है। ऐसे में ग्रामीणों में कौतुहल का विषय है।
यहां जांच कर रही टीम के अनुसार केरोसीन, डीजल, पेट्रोलियम उत्पाद की शोध हो रहा है। टीम नके मध्य प्रदेश के देवास जिले से यह शोध शुरू किया है।जो अब प्रतापगढ़ जिले के मंदसौर जिले से सटे गांवों में समाप्त हो रहा है। शोध का यह कार्य गत छह माह से अल्फा जीओ इंडिया हैदराबाद की कम्पनी कर रही है। यह कार्य केन्द्र सरकार की ओर से कराया जा रहा है।
लगाते हैं सेंसर
इस शोध के लिए टीम की आरे से जमीन पर केबल बिछाकर सेन्सर लगाते है।इसके लिए प्रशासन की ओर से स्वीकृति के बाद यह कार्य किया जा रहा है।गौरतलब है कि यहां अगर उत्पाद मिल जाता है तो किसान के लिए अच्छा रहेगा। वहीं क्षेत्र का विकास भी होगा।
अधिकतम दो सौ फीट गहरा
यहां शोध के लिए टीम की ओर से अधिकतम दो सौ फीट तक गहरा ड्रिल किया जाता है। ड्रिलिंग के लिए 20 मशीनें कार्य कर रही है। इन्होनें एक कन्ट्रोल रूम भी स्थापित किया हुआ है।

गांवों में कंपन्न से ग्रामीण भयभीत
यहां ड्रिलिंग के समय कम्पन्न भी होता है।ऐसे में यह कम्पन्न गांवों में मकानों में भी हो रहा है।इससे ग्रामीणों में मकानों में दरारें होने का भय है।
इन गांवों में किया जा रहा शोध
प्रतापगढ़ जिले के आधा दर्जन गांवों में शोध किया जा रहा है। इसमें मोखमपुरा के पास वाले गांव है।इनमें धनेश्री, सैलारपुरा, मचलाना, प्रतापपुरा, अचनारा, डाबड़ा आदि गांवों में शोध चल रहा है।