घरेलू शेयर बाजार पर रहेगा बजट का असर, आरबीआई के फैसले का इंतजार

|

Updated: 02 Feb 2020, 09:35 PM IST

  • एमपीसी की बैठक और तिमाही नतीजों का देखने को मिलेेगा असर
  • सरकार के नए हफ्ते में जारी हो सकते हैं आर्थिक आंकड़ें
  • बजट का भी बाजार पर देखने को मिल सकता है असर

नई दिल्ली। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा शनिवार को संसद में पेश आम बजट 2020-21 घरेलू शेयर बाजार की तत्काल प्रतिक्रिया निराशाजनक रही और सेंसेक्स व निफ्टी में भारी गिरावट दर्ज की गई। लेकिन आगामी कारोबारी सप्ताह में बजट की बारीकियों को समझने के बाद बाजार का रुख तय हो सकता है। इसके अलावा आरबीआई की मौद्रिक समीक्षा बैठक, प्रमुख कंपनियों के वित्तीय नतीजे और विदेशी संकेतों से बाजार की चाल तय होगी। बजट के दिन विशेष सत्र के दौरान प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले करीब 988 अंक लुढ़कर 40,000 के नीचे बंद हुआ और निफ्टी भी पिछले सत्र से 300 अंक टूटकर 11,700 के नीचे आ गया है। विशेष सत्र में आई भारी गिरावट के कारण दोनों प्रमुख सूचकांक पिछले सप्ताह के मुकाबले करीब साढ़ चार फीसदी टूटे।

यह भी पढ़ेंः- आयकर में 5 लाख की आय पर टैक्स फ्री विकल्प के फैसले पर अधिकतर लोग संतुष्ट

देखने को मिली भारी गिरावट
बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई)के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स शनिवार को पिछले सप्ताह के मुकाबले 1,877.66 अंकों यानी 4.51 फीसदी की गिरावट के साथ 39,735.53 पर बंद हुआ। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी पिछले सप्ताह के मुकाबले 586.40 अंकों यानी 4.78 फीसदी की गिरावट के साथ 11,661.85 पर बंद हुआ। बीएसई मिड-कैप सूचकांक पिछले सप्ताह से 702.89 अंकों यानी 4.44 फीसदी की गिरावट के साथ 15,119.65 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉल-कैप सूचकांक पिछले सप्ताह मुकाबले 501.26 अंकों यानी 3.37 फीसदी की गिरावट के साथ 14,344.70 पर बंद हुआ।

यह भी पढ़ेंः- मिडिल क्लास के अनुसार बजट से नहीं पैदा होंगी नौकरियां, सर्वे में सामने आईं कमियां

आरबीआई की बैठक और नतीजे
- घरेलू शेयर बाजार की नजर इस सप्ताह भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक समीक्षा बैठक के नतीजों पर भी रहेगी। आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक 4-6 फरवरी को हो रही है।
- आर्थिक विशेषज्ञों का अनुमान है कि हालिया महंगाई दर के आंकड़ों को देखते हुए आरबीआई प्रमुख ब्याज दरों को यथावत रखने का फैसला कर सकता है।
- उधर, ऑटोमोबाइल कंपनियों द्वारा बीते महीने जनवरी के दौरान वाहनों की गई बिक्री के आंकड़ों का भी बाजार पर असर देखने को मिलेगा।
- साथ ही, इस सप्ताह करीब 700 कंपनियां चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के अपने वित्तीय नतीजे जारी करने वाली हैं, जिनमें अडानी पोट्र्स एंड स्पेशल इकॉनोमिक जोन, भारती एयरटेल और टाइटन कंपनी के वित्तीय नतीजे मंगलवार को जारी हो सकते हैं।
- वहीं सिप्ला बीती तिमाही के नतीजे बुधवार को जारी करने वाली है जबकि गुरुवार को आइशर मोटर्स, हीरो मोटोकॉर्प और सन फार्मास्युटिकल इंडस्ट्रीज के तीसरी तिमाही के वित्तीय नतीजे आने की संभावना है।
- एनटीपीसी तीसरी तिमाही के अपने वित्तीय नतीजे शुक्रवार को जारी कर सकती है।
- जनवरी महीने के मार्किट मैन्युफैक्च रिंग पीएमआई के आंकड़े सोमवार को जारी होंगे, जबकि मार्किट सर्विसेज पीएमआई के जनवरी महीने के आंकड़े बुधवार को जारी हो सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः- बजट में साफ पानी, मेडिकल कॉलेज और सरोकार, लेकिन कहां है रोजगार

विदेशी संकेतों का भी रहेगा असर
वहीं, विदेशी संकेतों का भी घरेलू शेयर बाजार पर असर देखने को मिलेगा। चीन, अमेरिका और यूरोजोन के प्रमुख आर्थिक आंकड़ों से बाजार को दिशा मिल सकती है। साथ ही, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव और डॉलर के मुकाबले रुपये की चाल पर भी निवेशकों की नजर होगी। देश के शेयर बाजार की नजर, दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक घटनाक्रमों पर भी रहेगी। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आठ फरवरी को मतदान होगा और चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को घोषित होंगे।