ट्रैक सुधार रही ट्रेन के नीचे आए दो रेल कर्मचारी, मचा हड़कंप

|

Published: 30 Jun 2021, 01:13 PM IST

मंदसौर में ट्रैक सुधार रही ट्रेन के नीचे दो रेल कर्मचारियों के आने की सूचना के बाद हड़कंप मच गया, बाद में पता चला कि दोनों सुरक्षा जांच रहे थे।

मंदसौर. रेलवे में विभिन्न सेक्शन में ट्रैक सुधार का कार्य चल रहा है। इस काम को विशेष ट्रेन द्वारा किया जा रहा है। मंगलवार दोपहर रेल मंडल के मंदसौर सेक्शन में विशेष ट्रेन के द्वारा गिट्टी बिछाने के दौरान दो रेल कर्मचारी ट्रेन के नीचे आने से गंभीर रुप से घायल होने की सूचना आई। इसके बाद रेल मंडल मुख्यालय पर हड़कंप मच गया। बाद में पता चला की रेलवे ने सुरक्षा के इंतजाम की जांच के लिए मॉप ड्रिल की थी।

मंगलवार दोपहर रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा के सुरक्षा सायरन दो बार बजे। इसके बाद स्टेशन से लेकर रेलवे नियंत्रण कक्ष में हड़कंप मच गया। रेलवे का सायरन बजने के बाद स्टेशन पर अफरा तफरी हो गई। इसी प्रकार रेलवे नियंत्रण कक्ष में भी हड़कंच मच गया। मंडल रेल प्रबंधक विनीत गुप्ता, अपर मंडल रेल प्रबंधक केके सिन्हा सहित ट्रैक, इंजीनियरिंग, संकेत व सुरसंचार विभाग, मेडिकल, संरक्षा विभाग के अधिकारी हरकत में आ गए। ताबड़तोड़ स्टेशन पर दुर्घटना राहत मेडिकल यान व इंजीनियरिंग विभाग की दुर्घटना यान को भेजने का निर्णय लिया गया। इस बीच स्टेशन पर रेल मंडल के कई वरिष्ठ अधिकारी, रेलवे अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक आदि पहुंच गए थे। दोपहर मेडिकल यान व इंजीनियरिंग विभाग की दुर्घटना यान प्लेटफॉर्म पर आ गई थी। इसके बाद 1 बजे दोनों ट्रेन को दुर्घटना स्थल के लिए रवाना कर दिया गया।

Must See: ट्रेन के आउटर पर रुकते ही लूट, तीन राज्यों ने शुरु किया संयुक्त अभियान

रास्ते में बताया गया
रेलवे स्टेशन से मेडिकल यान व दुर्घटना यान में अधिकारियों को चिकित्सकों सहित दोपहर 1 बजे रवाना भी कर दिया गया। इनके साथ संरक्षा, सुरक्षा व चिकित्सा के पूरे संसाधन थे। दोनों ट्रेन में शामिल अधिकारियों की राहत ट्रेन को करीब 1 बजे रवाना कर दिया गया। बाद में ट्रेन में शामिल अधिकारियों को बीच रास्ते में बताया गया की ट्रेन की किसी प्रकार की कोई रेल दुर्घटना नहीं हुई है। यह वरिष्ठ अधिकारियों ने कर्मचारियों की कार्य करने की समय की क्षमता को देखने के लिए जांच की थी। इसके बाद सभी ने राहत की सांस ली।

Must See: हबीबगंज स्टेशन का नाम बदलने की पोस्ट वायरल, रेलवे ने कहा

समय समय पर जरूरी है
मंडल रेल प्रबंधक विनीत गुप्ता ने बताया कि कर्मचारी किसी भी प्रकार के आपात हालात होने पर कितने सजग है, इसकी जांच के लिए इस प्रकार की जांच का अभियान चलाया जाता है। नियम अनुसार दुर्घटना की सूचना मिलने के 20 मिनट के अंदर राहत ट्रेन को रवाना करना जरूरी है, हमारे सजग कर्मचारियों ने यह कार्य 15 मिनट में ही कर दिया।

Must See: मौत के सामने से मां को खींच लाई 5 साल की बेटी