ये हैं सोशल मीडिया के शातिर ठग, राजस्थान से पकड़कर लाई पुलिस

|

Updated: 29 Jun 2021, 04:10 PM IST

सोशल मीडिया पर दोस्ती कर ब्लैकमेल कर रुपए एंठने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के दो सदस्यों को पुलिस को अलवर व भरतपुर से पकड़ा...

मंदसौर. सोशल मीडिया पर दोस्ती कर ब्लैकमेल कर रुपए एंठने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के दो आरोपियों को पुलिस ने पकड़ा है। पुलिस ने इन आरोपियों को राजस्थान के अलवर व भरतपुर से पकड़ा है। यह दोनों आरोपी मेवात गिरोह के सदस्य हैं। पुलिस के मुताबिक दोनों आरोपियों ने मंदसौर के रहने वाले एक व्यावसायी को अपना निशाना बनाया था और दो लाख रुपए हड़प लिए थे। जिसकी शिकायत पुलिस को मिली थी और उसी के आधार पर आरोपियों की गिरफ्तारी की गई है।

ये भी पढ़ें- पुलिस की बड़ी कामयाबी, इतने नोट पकड़ाए कि भर गया कमरा !

फेसबुक पर दोस्ती कर बनाते थे शिकार
बीते दिनों पुलिस को शहर के एक व्यवसायी ने शिकायत की थी व्हाट्स अप पर वीडियो कॉलिंग में अश्लील वीडियो बनाए जाने के बाद उससे दो लाख रुपए वसूले गए हैं। इसके आधार पर पुलिस ने शिकायत दर्ज कर मामले की तफ्तीश की। तफ्तीश के दौरान मामले के तार राजस्थान के अलवर से जुड़े मिलने पर पुलिस ने अलवर और भरतपुर से एक-एक आरोपी को पकड़ा है। एएसपी अमित वर्मा ने बताया कि दोनों आरोपी मेवात गिरोह के सदस्य हैं जो कि सोशल मीडिया के जरिए लोगों को अपना शिकार बनात हैं।

 

ये भी पढ़ें- सनसनीखेज : 10 साल से लिव-इन में रह रही प्रेमिका को मारकर किचिन में दफनाया

 

ये है वारदात का तरीका...
एएसपी अमित वर्मा ने बताया कि हरियाणा के मेवात जिले से संचालित होने वाली इस गैंग के सदस्य पहले तो युवती के नाम से फेसबुक के माध्यम से व्यक्तियों से दोस्ती करते हैं और फिर व्हाट्सएप पर वीडियो कॉलिंग कर अश्लील वीडियो के साथ उनका स्क्रीन शॉट लेकर या फिर उसकी रिकॉर्डिंग कर ब्लैकमेल कर राशि वसूलते हैं। इसके लिए फर्जी बैंक अकाउंट ओर मोबाइल सिम का उपयोग गैंग के द्वारा किया जाता है। आरोपी घटना में मोबाइल सिम असम एवं पश्चिम बंगाल क्षेत्र से प्राप्त करते हैं। तथा राशि का आहरण करने के लिए फर्जी रूप से बैंक खातों को उपरोक्त दोनों आरोपियों द्वारा उपलब्ध कराया जाता था। इस कार्य के लिये औद्योगिक क्षेत्र में मजदूरी वर्ग के व्यक्तियों को बहला कर उनके नाम व आईडी पर बैंक खातों को फर्जी तरीके से खुलवा कर गिरोह के मुख्य सरगना को उपलब्ध कराते हुए 10 से 25 हजार रुपए की राशि लेते थे। आरोपियों से करीब 200 मजदूरों के आईडी कार्ड एवं बैंक खाते की जानकारी, 3 मोबाइल, 6 फर्जी सिम, 1 फर्जी बैंक खाता किट जप्त की गई।

देखें वीडियो- सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा कुएं में गिरे भालू के रेस्क्यू का वीडियो