Pashupatinath Mandir यहां स्थापित है भगवान शिव की सबसे कलात्मक मूर्ति

|

Updated: 23 Jul 2021, 08:58 AM IST

भगवान पशुपतिनाथ का मंदिर मंदसौर का मुख्य आकर्षण बन चुका है।

Pashupatinath Temple Mandsaur Pashupatinath Mandir Mandsaur

मंदसौर. शिवभक्ति के लिए मालवा अंचल देश—दुनिया में जाना जाता रहा है। उज्जैन में जहां विश्वविख्यात महाकालेश्वर मंदिर है वहीं मंदसौर का भगवान पशुपतिनाथ का मंदिर भी शिवभक्तों के लिए श्रद्धा का केंद्र है। भगवान पशुपतिनाथ का मंदिर मंदसौर का मुख्य आकर्षण बन चुका है। शिवना नदी के तट पर स्थित मंदिर में स्थापित गहरे तांबे से बनी भगवान शिव की मूर्ति कलात्मकता हर किसी का मन मोह लेती है।

आखिरी वक्त तक नहीं छोड़ा मां का हाथ, मां के साथ ही विदा हुआ दस साल का मासूम बेटा

सावन माह में तो इस मंदिर में हमेशा शिवभक्तों की चहल—पहल बनी रहती है, पूजा—पाठ और साधना चलती रहती है। हालांकि कोरोना काल में कुछ बदलाव हुए हैं। पिछले साल की तरह इस बार भी कोविड प्रोटोकॉल लागू रहेगा और गर्भगृह के बाहर से दर्शन के अलावा अभिषेक और बिल्वपत्र आदि बाहर ही चढ़ाना होंगे। हालांकि मंदिर परिसर में आकर्षक सजावट की जा रही है।

पहले दुल्हन के प्रेमी को गोली मारी, फिर दूल्हे ने लिए सात फेरे

श्रावण माह में भक्त और भगवान के बीच फिर से दूरी तो रहेगी पर भक्त भी कोविड की निराशा को पीछे छोड़ श्रावण की शुरुआत के साथ शिव की भक्ति में रमेंगे। भगवान पशुपतिनाथ महादेव मंदिर में श्रावण माह की रंगत अभी से देखी जा रही है। रंग-बिरंगी पौशाकों व झालरों से मंदिर की सजावट की जा रही है तो परिसर पर विद्युत साज-सज्जा भी की जा रही है। सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क की अनिवार्यता मंदिर प्रवेश के लिए अनिवार्य होगी।