Dengue : मध्यप्रदेश में यहां सबसे अधिक डेंगू के मरीज, एक की मौत

|

Updated: 19 Sep 2021, 01:38 PM IST

Dengue : मध्यप्रदेश के मंदसौर में डेंगू के सबसे अधिक मरीज हैं, यहां एक मरीज की उपचार के दौरान भी मौत भी हो गई है।

मंदसौर. डेंगू-मलेरिया की रोकथाम के लिए विभाग द्वारा 50 हजार घरों का सर्वे कराया जा चुका है, हजारों स्थानों पर मिले लार्वा को तुरंत नष्ट किया गया, लोगों को समझाईश देने के साथ ही चालानी कार्रवाई भी गई, लेकिन इसके बावजूद डेंगू से एक व्यक्ति की मौत हो गई है। जबकि अभी तक करीब एक हजार केस डेंगू पॉजीटिव आए हैं। लेकिन जिम्मेदार कोई ठोस कदम उठाने को तैयार नहीं है।

11 नए मामले, अब तक 989 केस


शनिवार को जिला अस्पताल में भर्ती एक डेंगू पॉजीटिव मरीज की मौत हो गई है, वहीं 11 नए डेंगू के मामले फिर सामने आए हैं। जिले में अब तक डेंगू के करीब 989 पॉजीटिव केस सामने आ चुके हैं। जिसको देखते हुए नपा और स्वास्थ्य विभाग की टीम भी मैदान में सक्रिय हो गई है।

सरकार के हाथ में कोरोना की डोर-हार नजर आती है तो बढ़ जाता है कोविड-19

स्वास्थ्य विभाग झाड़ रहा पल्ला


जानकारी के अनुसार जिला अस्पताल में भर्ती पिंटू नामक मरीज की मौत शनिवार को हुई है। वह जिला चिकित्सालय में भर्ती था, डेंगू पॉजीटिव था, उसका उपचार भी चल रहा था, इसकी मौत होने के बाद विभाग जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ते हुए व्यक्ति की मौत अन्य कारणों से बता रहा है।

बारिश पर भारी आस्था, यहां कंघे तक पानी में डूब कर गणपति विसर्जन

50 हजार घरों का सर्वे


अब तक 50343 घरों में सर्वे किया जा चुका है, वहीं नगरपालिका की टीम के द्वारा 135 घरों में सर्वे के दौरान लार्वा पाया गया। जिन पर चालानी कार्रवाई की गई है। वही 5991 कंटेनर में सर्वे के दौरान लार्वा पाया गया। जिस को नष्ट किया गया है।

स्कूल तक सड़क की मांग को लेकर विद्यार्थियों ने किया हंगामा

प्रदेश में सबसे अधिक मंदसौर में डेंगू


प्रदेश में सबसे अधिक डेंगू के मरीज मंदसौर जिले में हैं, यहां पर अभियान भी चलाया गया। लेकिन अभियान का ज्यादा असर अब तक देखने को नहीं मिला है। इसका ताजा उदाहरण शनिवार को 22 जांच की गई है। जिसमें से 11 मरीज पॉजीटिव आए हैं। यानी 50 फीसदी डेंगू मरीज पॉजीटिव आ रहे है।

बच्चों की नींव मजबूत करने स्कूल खुलते ही पहले करेंगे अपडेट

अन्य बीमारी से मौत

मरीज डेंगू पॉजिटिव था, लेकिन उसकी मौत अन्य बीमारी के कारण हुई है।
-डॉ. केएल राठौड़, सीएमएचओ, मंदसौर