जहरीली शराब से मौत मामला : दिग्विजय सिंह ने आबकारी मंत्री से मांगा इस्तीफा, करोड़ों रुपये रिश्वत लेने का लगाया आरोप

|

Published: 28 Jul 2021, 02:46 PM IST

जहरीली शराब से मौतों पर गर्माई सियासत, पूर्व सीएम कमलनाथ और मध्य प्रदेश कांग्रेस के हमले के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंग ने प्रदेश के आवकारी मंत्री से की इस्तीफे की मांग। लगाए गंभीर आरोप।

मंदसौर/ मंदसौर जिले में आबकारी मंत्री के विधानसभा क्षेत्र में स्थित खकराई गांव में जहरीली शराब पीने से हुई लोगों की मौत के मामले पर अब मध्य प्रदेश की सियासत गर्मा गई है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ समेत कांग्रेस के कई नेताओं द्वारा अब तक इसपर शिवराज सरकार के खिलाफ कई तीखी प्रतिक्रियाएं दी जा चुकी हैं। इसी कड़ी में अब पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा से मामले पर इस्तीफे की मांग कर दी है।

 

पढ़ें ये खास खबर- MPBSE 12th Class result Date : गुरुवार को जारी होगा 12वीं का रिजल्ट, इन बातों का रखें ध्यान


दिग्विजय ने ट्वीट कर लगाए आरोप

 

जहरीली शराब पीने से हुई मौतों पर दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए आरोप लगाते हुए कहा कि, अवैध शराब का धंधा पुलिस और आबकारी विभाग के संरक्षण में चलाया जाता है और इनसे हर महीने करोड़ों की रिश्वत वसूली जाती है। क्या आबकारी मंत्री जी को अपने ही निर्वाचन क्षेत्र में धड़ल्ले से चल रहे अवैध शराब के धंधे की जानकारी नहीं थी? क्या यह संभव है? क्या मंत्री जी को इस्तीफा नहीं देना चाहिए?


दिग्विजय ने दिलाई मुरैना में 26 लोगों की मौत की याद

इससे पहले एक अन्य ट्वीट में दिग्वियज ने कहा कि, मध्य प्रदेश में अवैध शराब का धंधा बहुत बड़े पैमाने पर चल रहा है। जनवरी 2021 में नूराबाद थाना मुरैना में 26 लोगों की जान गई। अब स्वयं भाजपा सरकार के आबकारी मंत्री के मल्हारगढ़ निर्वाचन क्षेत्र पीपल्या मंडी थाना क्षेत्र जिला मंदसौर में 11 लोगों की मौत का समाचार है।


मामले पर अब तक हुई ये कार्रवाई

आपको बता दें कि, सरकार द्वारा रविवार को 6 लाेगों की जहरीली शराब से मौत के मामले में जांच के लिए गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय समिति बनाई है। इसके अलावा, सरकार ने आबकारी निरीक्षक, थाना प्रभारी और बीट प्रभारी को इस संबंध में सस्पेंड भी कर दिया है।

 

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा का दिग्विजय सिंह पर हमला, कहा- अवैध शराब मामले पर उन्हें बोलने का हक नहीं, देखें Video