वैक्सीन लगवाई पर नहीं मिल रहे प्रमाण पत्र

|

Published: 29 Jul 2021, 09:54 PM IST

पशोपेश में हितग्राही

मंडला. जिले में कोविड 19 का टीकाकरण अभियान बेहद जोर शोर से चल रहा है। जिला टीकाकरण कार्यालय के आंकड़े बता रहे हैं कि जिले भर में अब तक 2 लाख 72 हजार 494 हितग्राहियों को टीके की पहली खुराक लग चुकी है और 44 हजार 587 हितग्राहियों को वैक्सीन की दूसरी खुराक लग चुकी है। वैक्सीन की पहली डोज लेने वालों में ऐसे बहुत से लोग हैं जिनके मोबाइल नंबर पर उनके वैक्सीनेशन का मैसेज नहीं आया। ऐसे हितग्राही अपने प्रमाणपत्र के लिए परेशान हो रहे हैं।
पहले ऑनलाइन, अब ऑफलाइन
टीकाकरण के शुरूआती दौर में यह नियम लागू किया गया कि हितग्राहियों को कोविन पोर्टल में पहले अपना ऑनलाइन पंजीयन कराना होगा। पंजीयन के बाद वैक्सीनेशन के लिए स्लॉट बुक कराना होगा ताकि नियत समय पर निर्धारित टीकाकरण केंद्र पर हितग्राही को टीका लगाया जा सके। इस चरण मे प्रत्येक हितग्राही को टीकाकरण के तत्काल बाद मैसेज आए। लेकिन आदिवासी बहुल्य जिला होने के कारण लोगो में जागरुकता और जानकारी के अभाव के साथ इंटरनेट की समस्या लगातार बनी रहती है। ऐसे में ऑनलाइन पंजीयन में ग्रामीण इलाकों के हितग्राहियों ने बिल्कुल रुचि नहीं ली और टीकाकरण में जिला तेजी से पिछडऩे लगा। ऐसे में लक्ष्य पूर्ति के लिए जिलेवासियों को ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन की सुविधा उपलब्ध कराई गई। यानि टीकाकरण केंद्र पर ही हितग्राहियों का पंजीयन कराया जाने लगा। इसी चरण के बाद कई हितग्राहियों ने शिकायत की है कि टीकाकरण के बाद उनके मोबाइल में मैसेज नहीं आ रहे हैं। इसकारण उन्हें प्रमाणपत्र निकलवाने में परेशानी हो रही है। मैसेज नहीं आने के कारण उन्हें दूसरा डोज लगवाने में परेशानी होगी।
अधिकारी ने गिनाए कारण
* यदि मोबाइल नंबर में कोई भी गड़बड़ी तो वैक्सीनेशन का मैसेज नहीं आता
* यदि ऑफलाइन पंजीयन के बाद मोबाइल बंद किया जाए या नेटवर्क न हो तो कभी कभी मैसेज नहीं आते
केस 01
रानी दुर्गावती वार्ड निवासी रीना बर्वे ने 1 जुलाई को वैक्सीनेशन कराया, इसके लिए ऑफलाइन पंजीयन कराया था लेकिन उनके मोबाइल में कोई मैसेज नहीं आने से वे परेशान हैं। उनका कहना है कि ऐसे में दूसरा डोज कैसे लग पाएगा।
केस 02
शहीद उदय चंद वार्ड के कोष्टा मोहल्ला निवासी प्रदीप भांगरे का कहना है कि उन्होंने 15 जुलाई को टीकाकरण कराया था। इसके लिए ऑफलाइन पंजीयन कराया था लेकिन मैसेज नहीं आया। अब प्रमाणपत्र के लिए परेशान हो रहे हैं।
मिलें पंजीयन अधिकारी से
ऑफलाइन पंजीयन के बाद भी मैसेज नहीं आने की शिकायतों पर जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ वायके झारिया का कहना है कि जिन क्षेत्रों में नेटवर्क की समस्या है वहां ऑफलाइन पंजीयन के बाद मैसेज नहीं आने की शिकायतें मिल रही हैं। ऑफलाइन पंजीयन के बाद कई बार तत्काल मैसेज नहीं आता, कुछ समय बाद आता है। ऐसे में हितग्राही परेशान न हों। उन्होंने जिस केंद्र में जाकर टीकाकरण कराया था वहां पंजीयन अधिकारी से मिलें तो उन्हे प्रमाणपत्र उपलब्ध कराया जाएगा।