सोने में आई भारी गिरावट, एक साल पुराने दाम पर पहुंची सोने की कीमतें

|

Published: 03 Mar 2021, 10:08 AM IST

  • बड़ी गिरावट के साथ सोने की कीमतें 44,760 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गईं
  • चांदी में भी आई भारी गिरवट, 67,073 रुपये प्रति किलो हो गई चांदी
  • बीते साल मार्च में भी सोने की कीमतें इसी के आसपास थीं, पर उस समय रेट बढ़ रहे थे

सोने में आई भारी गिरावट, एक साल पुराने दाम पर पहुंची सोने की कीमतें

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

लखनऊ. सोने के की कीमतों में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है। हालत ये है कि अभी सोना की कीमत 12,000 रुपये से भी ज्यादा कम हो चुकी है। एक बार फिर सोने में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। सोना 679 रुपये गिरकर 44,760 रुपये प्रति 10 ग्राम की कीमत पर आ चुका है। इसी तरह चांदी की कीमतों में भी भारी कमी दर्ज की गई है। 1,847 रुपये की गिरावट के साथ ही चांदी की कीमत लुढ़ककर प्रति किलो 67,073 रुपये पर पहुंच गई है।


पिछले कारोबारी सत्र में सोमवार को सोना 45 हजार रुपये के ऊपर था, लेकिन मंगलवार को इसमें बड़ी गिरावट दर्ज की गई। 679 रुपये की गिरावट के बाद 45,439 रुपये से घटकर सोने की कीमत 44,760 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गई। इसी तरह 68,920 रुपये प्रित किलोग्राम से घटकर चांदी भी 67,073 रुपये पर आ गई। इस गिरावट के पीछ अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में कमजोरी और रुपये में सुधार बड़ी वजह बतायी जा रही है। उधर अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भी सोने में गिरावट दर्ज की गई। इसकी कीमत 1,719 डाॅलर प्रति औंस रही।


इसके पहले बीते साल 2020 में भी मार्च के महीने में सोना 44,000 से 4,5000 रुपये की कीमत पर चल रहा था। पर तब और अब में फर्क ये है कि उस समय कोरोना संक्रमण काल अपने चरम पर था और निवेशक शेयर के बदले सोने में निवेश कर रहे थे। बेतहाशा खरीद के चलते तब सोने के दाम तेजी से आसमान को छू रहे थे। हालत ये हुई कि अक्तूबर आते-आते सोना अपने अब तक के रिकाॅर्ड उच्चतम स्तर 56,200 रुपये प्रति 10 ग्राम की कीमत तक पहुंच गया। इन दिनों कोरोना वैक्सीन आ जाने के बाद सोने के दाम तेजी से नीचे आ रहे हैं। वैक्सीन के आने के बाद जहां शेयर बाजार में सुधार आया वहीं सोना लगातार कमजोर हुआ। हालत ये है कि आठ महीनों में सोना 12 हजार से भी ज्यादा नीचे आ चुका है। सोने की लगातार गिरती कीमतों से वो निवेशक चिंतित हैं जिन्होंने पिछले आठ महीनों में सोने में निवेश किया है। उन्हें लगातार नुकसान हो रहा है।