यस बैंक ने ब्रेच के प्रस्ताव पर टाला फैसला, शेयरों में 10 फीसदी से ज्यादा की गिरावट

|

Updated: 10 Dec 2019, 06:36 PM IST

  • कनाडा के इंवेस्टर के प्रस्ताव को यस बैंक बोर्ड ने ठंडे बस्ते में डाला
  • नामी ना होने और कई मामलों में मुकदमे होने से बैंक कर रही है किनारा
  • बैंक अब नामचीन इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स की खोज करने में जुटा

नई दिल्ली। यस बैंक ( Yes Bank ) ने मंगलवार को कनाडा के रहस्यमय निवेशक ब्रेच के प्रस्ताव पर फैसला टाल दिया। इस बात के पहले से ही कयास लगाए जा रहे थे कि बैंक कनाडा के इर्विन सिंह ब्रेच के विवादास्पद 1.2 अरब डॉलर के प्रस्ताव को स्वीकार करने से इनकार कर सकता है। जिसकी वजह से आज शेयर बाजार ( Share Market ) में यस बैंक के शेयर ( Yes Bank Share Price ) में भारी गिरावट भी देखी गई। बाजार खत्म होने तक यस बैंक के शेयर में भारी गिरावट ( Yes Bank Share Price Crash ) 10 फीसदी के साथ बंद हुए।

यह भी पढ़ेंः- घरेलू मांग और रुपए में मजबूती से सोना 95 रुपए सस्ता, चांदी 128 रुपए लुढ़की

रवनीत गिल की अगुवाई वाले चौथे सबसे बड़े बैंक के दो अरब डॉलर के निवेश प्रस्ताव पर फैसला ले लिया गया है। वास्तव में बैंक की ओर से इस प्रस्ताव को टाल दिया गया है। कनाडा के इर्विन सिंह ब्रेच के विवादास्पद 1.2 अरब डॉलर की सबसे बड़ी हिस्सेदारी थी। वहीं बैंक ने 2 अरब डॉलर का प्लान बनाया था। बाकी की रकम एक और कंपनी से जुटानी थी। आपको बता दें कि इर्विन सिंह ब्रेच और परिवार पर कई तरह के केस चल रहे हैं। वहीं दूसरी ओर यह कोई बड़ा नाम भी नहीं है। ऐसे में आरबीआई की ओर से 10 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी देने से इनकार भी कर सकती है। जिसकी वजह से भी इस प्रस्ताव को बोर्ड की ओर से टाला गया है। वहीं जब से ब्रेच का नाम सामने आया है तब से बैंक के शेयरों में 17 फीसदी की गिरावट आ चुकी है।

यह भी पढ़ेंः- एक महीने के निचले स्तर पर बंद हुआ शेयर बाजार, यस बैंक के शेयरों में 10 फीसदी की गिरावट

यस बैंक के वॉल्यूम (शेयर के कारोबार) में बढ़ोतरी भी देखी गई, क्योंकि निवेशकों ने बोर्ड बैठक से पहले शेयरों की बिक्री की, जो बैंक के लिए एक महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। यस बैंक के शेयरों में बीते कुछ महीनों से सबसे ज्यादा कारोबार हुआ है। सूत्रों की मानें तो बैंक अब इंडिविजुअल इनवेस्टर की जगह इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स की खोज में जुट गया है। वहीं उसकी मार्केट और ब्रांड वैल्यू पर भी ध्यान देने की बात कही गई है। ताकि यस बैंक की हिस्सेदारी बेचने में कोई दिक्कत ना आए।