Tata Group Walmart में सुपर एप को लेकर हो सकती है 1.80 लाख करोड़ डील

|

Published: 29 Sep 2020, 02:38 PM IST

  • वॉलमार्ट की नजर टाटा ग्रुप सुपर एप पर टिकी, 25 अरब डॉलर के निवेश को लेकर बातचीत शुरू
  • रिलायंस जियो ने 14 विदेशी निवेशकों से जुटाए हैं 20 अरब डॉलर से ज्यादा, अब मिलेगी टक्कर

नई दिल्ली। टाटा ग्रुप जल्द ही बड़ा धमाका कर सकती है। यह धमाका रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी को भी हिलाकर रख सकता है। क्योंकि जियो के लिए 20 बीलियन डॉलर का निवेश पाने के लिए मुकेश अंबानी को करीब 3 महीने और 14 निवेशकों तक का इंतजार करना पड़ा। वहीं टाटा ग्रुप एक ही कंपनी 25 बीलियन डॉलर निवेश जुटाने का प्रयास कर रहा है। यह डील दुनिया की सबसे बड़ी रिटेल कंपनी वॉलमार्ट के साथ हो सकती है। टाटा ग्रुप वॉलमार्ट डील ( Tata Group Walmart Deal ) को लेकर आपस में बातचीत करने में जुट गए हैं। यह डील उस सुपरएप के लिए हो रही है, जिसे टाटा ग्रुप जल्द लांच कर ई-कॉमर्स मार्केट में एंंटर करने जा रहा है। इस डील से जियो के साथ अमेजन को भी बड़ा झटका लगने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ेंः- जानिए कैसे पता लगाते हैं कितना भरना होता है Income Tax, कुछ इस तरह से किया जाता है कैल्कुलेशन

दोनों का ज्वाइंट वेंचर हो सकता है सुपर एप
रिपोर्ट के अनुसार अगर यह डील होती है तो रिटेल में यह अब तक की सबसे बड़ी डील होगी। वहीं दोनों कंपनियों की बातचीत युद्घस्तर पर चल रही हैं। दोनों के ज्वाइंट वेंचर को सुपरएप का नाम दिया जा सकता है। अगर ऐसा होता है तो टाटा ग्रुप और फ्लिपकार्ट के ई-कॉमर्स कारोबार के बीच तालमेल का फायदा मिल सकता है। आपको बता दें कि वॉलमार्ट ने मई 2018 में ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट की 66 फीसदी हिस्सेदारी अपने नाम की थी, इसके लिए वॉलमार्ट की ओर से 16 अरब डॉलर खर्च करने पड़े थे।

यह भी पढ़ेंः- 24 घंटे में Gold हो गया एक हजार रुपए महंगा, जानिए Silver के कितने हो गए हैं दाम

रिलायंस जुटा चुका 20 अरब डॉलर
खास बात तो ये है कि हाल ही में एशिया के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी की ओर से अपने डिजिटल बिजनेस जियो प्लेटफॉर्म के लिए 14 विदेशी निवेशकों से 20 अरब डॉलर जुटाए हैं। इस निवेशकों में फेसबुक, इंटेल, गूगल, केकेआर व सिल्वर लेक आदि मौजूद हैं। वहीं दूसरी ओर टाटा भी सुपर ऐप के लिए बड़ा विदेशी निवेशक तलाश ममें है। सुपर एप के लांच होने से रिलायंस और अमेजन को रिटेल सेक्टर में कड़ी टक्कर मिल सकती है। आपको बता दें कि टेलीकॉम सेक्टर में सफलता पाने के बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज रिटेल सेक्टर में उतर गई है। हाल ही में रिलायंस ने ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म जियोमार्ट लांच किया है। इसलिए मुकेश अंबानी देश की कई रिटेल कंपनियों को अपने नाम कर रहे हैं।