Reliance Retail ने खरीदी ई-फार्मा कंपनी Netmeds, जानिए कितने में हुई है डील

|

Updated: 19 Aug 2020, 12:56 PM IST

- RRVL ने Vitalic की 60 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी, जिसकी कंपनी Netmeds की 100 फीसदी अधिग्रहित किया
- Reliance की विटैलिक और नेटमेड्स के लिए खर्च किए 620 करोड़ रुपए, Esha Ambani ने कहा और होगी कंपनी की ग्रोथ

नई दिल्ली। अमेजन के बाद अब रिलायंस इंडस्ट्रीज ( Reliance Industries ) ने भी ई फार्मा सेक्टर ( Pharma Sector ) में कदम रख दिया है। जिसके तहत आरआईएल ( RIL ) की सहायक कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड ( Reliance Retail Ventures Limited ) ने विटैलक हेल्थ प्राइवेट लिमिटेड ( Vitalic Health Private Limited ) और इसकी सहायक कंपनी नेटमेड्स ( Netmeds ) को अपने नाम कर लिया है। इन दोनों कंपनियों को अधिग्रहित करने के लिए रिलायंस ने 620 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। आपको बता दें कि जियो की तरह रिलायंस रिटेल को भी नई बुलंदियों पर पहुंचाने की तैयारी चल रही है। जानकारों की मानें तो रिलायंस रिटेल में पूरा दिमाग ईशा अंबानी ( Esha Ambani ) का लगा हुआ है। आने वाले दिनों में रिलायंस रिटेल कुछ और कंपनियों का भी अधिग्रहण करने के बारे में सोच सकती है।

यह भी पढ़ेंः- इन चार Government Bank के Privatization का Process हुआ तेज, कहीं आपका तो नहीं इन बैंकों में खाता

कुछ ऐसी है यह डील
रिलायंस रिटेल की ओर से विटैलिक में कुल 60 फीसदी की हिस्सेदारी खरीदी है। जबकि सहायक कंपनियों त्रिसारा हेल्थ प्राइवेट लिमिटेड, नेटमेड्स मार्केट प्लेस लिमिटेड और दाधा फार्मा डिस्ट्रिब्यूशन प्राइवेट लिमिटेड जिन्हें मिलाकर नेटमेड्स बनी में उसकी 100 फीसदी हिस्सेदारी अपने नाम की है। रिलायंस रिटेल की डायरेक्टर ईशा अंबानी ने कहा है कि नेटमेड्स के अधिग्रहण से अब रिलायंस रिटेल लोगों को अच्छी क्वालिटी और किफायती हेल्थ केयर प्रोडक्ट और सेवाएं मुहैया करा सकेगा। ईशा ने कहा कि वो नेटमेड्स के बिजनेस से काफी इंप्रेस हैं। काफी कम समय में उसने पूरे देश में अपनी सर्विस शुरू कर दी है। उन्हें यकीन है कि रिलायंस के आने से उसके ग्रोथ में और तेजीह देखने को मिलेगी।

यह भी पढ़ेंः- CMIE Report : अप्रैल से अब तक 1.89 करोड़ सैलरीड लोगों की गई नौकरी

2015 से जारी है नेटमेड्स
जानकारी के अनुसार विटैलिक और सहायक कंपनियां फार्मा डिस्ट्रिब्यूशन, सेल्स और बिजनेस सपोर्ट सर्विसेज के बिजनेस में 2015 से ही काम कर रही हैं। जिसकी सहायक कंपनियां एक ऑनलाइन फार्मेसी प्लेटफॉर्म नेटमेड्स को रन करती हैं। जो कस्टमर्स को फार्मासिस्ट से जोडऩे और दवाओं की डोर स्टेप डिलीवरी करते का काम करती हैं। कंपनी दवाओं के अलावा पोषण और वेलनेस प्रोडक्ट्स भी अवेलेबल कराती है।

यह भी पढ़ेंः- India China Tension: HDFC के बाद चीनी केंद्रीय बैंक का ICICI में निवेश