रिलायंस रिटेल के लिए दो दिनों में मुकेश अंबानी ने जुटाए करीब 12 हजार करोड़ रुपए

|

Updated: 02 Oct 2020, 09:28 AM IST

  • जनरल अटलांटिक से लेकर मुबाडला तक नए निवेशकों की हुई रिलायंस रिटेल में एंट्री
  • सिल्वर लेक ने अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने को कहा, 1875 करोड़ रुपए का करेगी अतिरिक्त निवेश

नई दिल्ली। जब से टाटा ग्रुप वॉलमार्ट डील की खबरें सामने आई हैं, तब से रिलायंस इंडस्ट्रीज में हलचल शुरू हो गई है। अब वो तेजी से विदेशी निवेशकों को लुभाने में जुट गया है। ऐसे में रिलायंस की ओर से शुरुआत उन्हीं निवेशकों से शुरू हुई है, जिन्होंने जियो प्लेटफॉर्म में निवेश किया था। एक महीने में जहां रिलायंस रिटेल के लिए केकेआर और सिल्वर लेक से एक महीने से ज्यादा समय लिया वहीं टाटा ग्रुप और वॉलमार्ट डील की खबरों के बाद रिलायंस ने रिटेल के लिए दो दिनों में तीन बड़ी डील कर करीब 12 हजार करोड़ रुपए जुटा लिए हैं। जिसके बाद रिलायंस रिटेल को और मजबूती मिल गई हैं। आइए आपको भी बताते हैं कि 30 सितंबर और 1 अक्टूबर के बीच में किन कंपनियों के साथ रिलायंस ने डील फाइनल की हैं।

रिलायंस मुबादला डील
अबू धाबी की मुबाडला इंवेस्टमेंट कंपनी 1.40 फीसदी इक्विटी के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज की सहायक कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड में 6,247.5 करोड़ रूपये का निवेश करेगी। यह रिलायंस रिटेल में चौथा बड़ा निवेश है। गुरूवार यानी एक अक्टूबर को रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड और रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड ने इस निवेश की घोषणा की। साल की शुरुआत में मुबाडला ने जियो प्लेटफॉम्र्स में 1.2 अरब डॉलर का निवेश किया था। यह मुबाडला का रिलायंस इंडस्ट्रीज की एक सहायक कंपनी में दूसरा निवेश है।

यह भी पढ़ेंः- इन दो बैंकों ने घटाई ब्याज दरें, जानिए किनता सस्ता हो जाएगा आपका होम और पर्सनल लोन

रिलायंस जनरल अटलांटिक डील
वैश्विक निवेश फर्म जनरल अटलांटिक 0.84 फीसदी इक्विटी के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज की सहायक कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) में 3,675 करोड़ रूपए का निवेश करेगी। यह रिलायंस रिटेल में तीसरा बड़ा निवेश है। बुधवार यानी 30 सितंबर को रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड और रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड ने इस निवेश की घोषणा की थी। इस डील के बाद रिलायंस रिटेल की प्री-मनी इक्विटी को 4.285 लाख करोड़ रूपए आंकी गई। साल की शुरूआत में जनरल अटलांटिक ने जियो प्लेटफॉम्र्स में 6,598.38 करोड़ का निवेश किया था। यह जनरल अटलांटिक का रिलायंस इंडस्ट्रीज की एक सहायक कंपनी में दूसरा निवेश है।

सिल्वर लेक ने बढ़ाई अपनी हिस्सेदारी
वहीं बुधवार को सिल्वर लेक ने मुकेश अंबानी की रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड में अपन हिस्सेदारी बढ़ाने की घोषणा की है। अब सिल्वर लेक 1,875 करोड़ रुपए का अतिरिक्त निवेश करेगी। इस निवेश को मिलाकर रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेडमें सिल्वर लेक और उसके सहयोगियों का कुल निवेश 9,375 करोड़ रुपए और कंपनी की कुल हिस्सेदारी बढ़कर 2.13 फीसदी हो जाएगी। मौजूदा समय में सिल्वर लेक की आरआरवीएल की सबसे बड़ी हिस्सेदारी हो गई हैै। इससे पहले सिल्वर लेक ने 9 सितंबर को सिल्वर लेक ने आरआरवीएल में पहले निवेशक के तौर पर 1.75 फीसदी इक्विटी के लिए 7500 करोड़ रुपए का निवेश किया था। वहीं केकेआर ने 23 सितंबर को 1.28 फीसदी इक्विटी के लिए 5,550 करोड़ रुपए निवेश करने का ऐलान किया था।

यह भी पढ़ेंः- टैक्सपेयर्स को बड़ी राहत, अब 30 नवंबर तक बढ़ी रिवाइज्ड आईटीआर भरने की आखिरी तारीख

जियो प्लेटफॉर्म में कितना किया था निवेश
अगर आप जियो प्लेटाफॉर्म से तुलना करें तो सिल्वर लेक ने रिटेल में अपनी हिस्सेदारी में इजाफा किया है। जियो में सिल्वर लेक की हिस्सेदारी 1.34 बिलियन डॉलर के निवेश के साथ 2.08 बिलियन थी। जोकि रिटेल में बढ़कर 2.13 फीसदी हो गई है, जबकि इसके सिल्वर लेक ने 1.27 बिलियन डॉलर की डील की है। इससे पहले केकेआर ने जियो में 2.32 फीसदी यानी 1.5 बिलियन डॉलर का निवेश किया था। जबकि जनरल अटलांटिक ने 1.34 फीसदी के साथ जियो में 0.87 बिलियन डॉलर की हिस्सेदारी खरीदी थी।

कितनी हो गई है रिलायंस रिटेल की वैल्यूएशन
बीते एक महीने में रिलायंस रिटेल में तीन कंपनियों ने 4 निवेश किए हैं। जिसकी वजह से कंपनी की कुल वैल्युएशन 57 बिलियन डॉलर पहुंच चुकी है। जबकि रिटेल में विदेशी निवेश की फेहरिस्त में और भी नाम जुड़ सकते हैं। जिसके बाद कंपनी की वैल्युएशन में और इजाफा हो सकता है। जानकारों की मानें तो अगर इसी तरह से आरआरवीएल में निवेश आता जाएगा तो कंपनी की वैल्युएशल जियो प्लेटफॉर्म से कहीं ज्यादा बढ़ जाएगी। आंकड़ों के अनुसार रिटेल की वैल्युएशन करीब 70 बिलियन डॉलर पहुंचने के आसार हैं। जबकि जियो प्लेटफॉर्म की वैल्युएशन 65 बिलियन डॉलर हो चुकी है।