अमरीकी कंपनी टिंडलस्केल में 15 लाख डॉलर का निवेश करेगी इंफोसिस

|

Published: 17 Sep 2018, 07:26 PM IST

इंफोसिस ने अमरीकी कंपनी टिंडलस्केल में दूसरी बार निवेश किया है।

नई दिल्ली। आईटी कंपनी इंफोसिस ने सोमवार को अमरीकी कंपनी टिंडलस्केल इंक में 15 लाख डॉलर का अतिरिक्त निवेश करने की घोषणा की है। इससे पहले कंपनी ने साल 2016 में इस कंपनी में 15 लाख डॉलर का निवेश किया था। इस तरह इंफोसिस का टिंडलस्केल में कुल निवेश 30 लाख डॉलर हो गया है। कंपनी ने एक बयान में कहा कि यह निवेश इंफोसिस इनोवेशन फंड के माध्यम से किया गया है।

बिग डेटा के परीक्षण को आसान बनाती है टिंडलस्केल

टिंडलस्केल के सॉफ्टवेयर-डिफाइंड सर्वर किसी भी पैमाने पर इन-मेमोरी प्रदर्शन में सक्षम हैं, जो किसी भी संगठन को अपने सॉफ्टवेयर में बिना किसी बदलाव के वर्चुअल रूप से किसी भी आकार की प्रणाली स्थापित करने में सक्षम बनाती है। टिंडलस्केल ज्यादा से ज्यादा संगठनों को बिग डेटा के परीक्षण को आसान करने में सक्षम बनाता है।

इंफोसिस ने नए निवेश पर जताया उत्साह

इंफोसिस के कार्यकारी उपाध्यक्ष दीपक पादाकी ने कहा कि हम टिंडलस्केल के साथ अपनी भागीदारी को और मजबूत करते हुए उत्साहित हैं। उनकी सॉफ्टवेयर-डिफाइंड सर्वर प्रौद्योगिकी कई संगठनों की वर्तमान प्रौद्योगिकी अवसंरना परिसंपत्तियों में वर्तमान निवेश के अंतर्गत ही मुनाफा बढ़ाने की राह में आनेवाली प्रमुख चुनौतियों का समाधान पेश करता है।

टिंडलस्केल ने कहा- दूसरी बार निवेश सम्मान की बात

टिंडलस्केल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी गेरी स्मर्डन ने कहा कि इंफोसिस से दूसरा निवेश मिलना सम्मान की बात है, जोकि कंसलटिंग, प्रौद्योगिकी, आउटसोर्सिग और अगली पीढ़ी की सेवाओं में नेतृत्वकर्ता है और उसकी कारोबार दुनिया के 50 देशों में फैला है। टिंडलस्केल का लक्ष्य कंपनियों की उन समस्याओं को सुलझाना है, जो अब तक पारंपरिक तरीकों से नहीं सुलझ सका है। टिंडरस्केल के साथ वे खुद की प्रणाली के प्रयोग से भी भविष्य के सर्वर का सृजन कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें--

मुकेश अंबानी की JIO को धूल चटाने आ रही है ये कंपनी, एक साल तक सबकुछ मिलेगा मुफ्त

Related Stories