देश की बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस करने जा रही है कॉग्निजेंट की तर्ज पर छंटनी

|

Published: 05 Nov 2019, 07:52 PM IST

  • अपने वर्कफोर्स के 10 फीसदी हिस्से को बाहर का रास्ता दिखाएगी
  • जूनियर लेवल 6 से लेकर 8 तक 32 हजार से ज्यादा कर्मचारी मौजूद

नई दिल्ली। देश की बड़ी आईटी कंपनियों में से इंफोसिस बड़े पेमाने पर छंटनियां करने जा रही है। यह छंटनी उसी तरह से की जा रही है जिस तरह से देश ग्लोबल आईटी कंपनी कॉग्निजेंट कर रही है। जानकारी के अनुसार कंपनी यह छंटनी मिड और सीनियल लेवल पर करने का मन बना रही है। वहीं कंपनी से जुड़े सुत्रों के अनुसार कंपनी अपने कुल वर्कफोर्स के 10 फीसदी लोगों को नौकरी से बाहर करने का मन बना चुकी है।

यह भी पढेंः- आईआरएफ को दिया सुझाव, निजी सीएनजी वाहनों को भी ऑड-ईवन में छूट मिले

आंकड़ों से समझिये किस लेवल पर कितनी होगी छंटनी
- जॉब लेवल 6 से करीब 2200 कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा।
- जॉब लेवल 6, 7 और 8 में कुल कर्मचारियों की संख्या 30,092 है।
- जॉब लेवल 3 और उससे नीचे के लेवल के करीब 4000 से 10000 कर्मचारियों को नौकरी से बाहर किया जाएगा।
- कंपनी में 86,558 कर्मचारी और एसोसिएट व मिड लेवल में कुल 1.1 लाख कर्मचारी काम करते हैं। - कंपनी में शीर्ष पदों पर 971 अधिकारी काम करते हैं।
- 50 असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट, वाइस प्रेसिडेंट, एग्जिक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट जैसे शीर्ष अधिकारियों को भी निकाला जाएगा।

यह भी पढेंः- होंडा मिलान 'मेक इन इंडिया' के तहत लगाएगी भारत में अपनी फैक्ट्री

आखिर क्यों
जानकारी के अनुसार ये छंटनियां फोकस्ड और टारगेटेड तरीके से की जा रही हैं। इससे पहले कंपनियां कर्मचारियों प्रदर्शन के आधार नौकरी से बाहर करती थी। लेकिन अब नौकरी से निकालने का पैटर्न चेंज हो गया है। अब कंपनियां बल्क में लोगों की छंटनिया कर रही हैं। अमरीका की एचएफएस रीसर्च के सीईओ फिल फश्र्ट की मानें तो मौजूदा समय में इंडस्ट्री में कॉम्प्लेक्स स्किल स्टाफ डिमांड ज्यादा है। ट्रेडिशनल सपॉर्ट सर्विसेज के स्टाफ की जरूरत ना के बराबर रह गई है। अब ज्यादातर काम ऑटोमेटड होता है। ऐसे में कंपनियां अब ज्यादा से ज्यादा स्टाफ कम कर अपनी लागत को कम करने का प्रयास कर रही हैं।