गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने रचा कीर्तिमान, इनाम में मिले 25 सौ करोड़ रुपए

|

Published: 24 Apr 2018, 11:32 AM IST

गूगल के सीइओ सुंदर पिचाई विश्व की 500 सर्वश्रेष्ठ कंपनियों के सीइओ में सबसे ज्यादा पुरस्कार पाने वाले पहले सीइओ बन गए हैं।

गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने रचा कीर्तिमान, इनाम में मिले 25 सौ करोड़ रुपए

नई दिल्ली। गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी यानी सीइओ सुंदर पिचाई ने एक और कीर्तिमान रच दिया है। पिचाई विश्व की 500 सर्वश्रेष्ठ कंपनियों के सीइओ में सबसे ज्यादा पुरस्कार पाने वाले पहले सीइओ बन गए हैं। दरअसल गूगल ने सुंदर पिचाई को 3, 53, 939 शेयर पुरस्कार के तौर पर दिए गए हैं। इन शेयरों की कीमत 380 मिलियन अमरीकी डॉलर यानी करीब 25 सौ करोड़ रुपए है। ब्लूमबर्ग के अनुसार पूरे विश्व में हाल के दिनों में किसी भी सार्वजनिक या निजी कंपनी को मिलने वाला यह सबसे बड़ा इनाम है। खबरों के अनुसार गूगल को यह पुरस्कार पिछले सप्ताह बुधवार को मिला है।

गूगल में सुंदर पिचाई का सफर

सुंदर पिचाई 2004 में गूगल के साथ जुड़े थे। इस दौरान सुंदर ने गूगल के लिए गूगल क्रोम, क्रोम ओएस आदि का निर्माण किया। इसके बाद वह गूगल ड्राइव परियोजना का हिस्सा बने। इसके बाद वह अन्य उत्पाद जैसे जीमेल और गूगल मानचित्र आदि का हिस्सा बने। 13 मार्च 2013 को पिचाई एंडरॉयड परियोजना से जुड़े, जिसे पहले एंडी रूबिन संभालते थे। वह अप्रैल 2011 से 30 जुलाई 2013 तक जीवा सॉफ्टवेयर के निर्देशक बने थे। 2015 में सुंदर पिचाई को गूगल का सीइओ बना दिया गया। पिचाई ने 2 अक्टूबर 2015 को गूगल के सीइओ का पद संभाला।

एनसीएलएटी ने सुरक्षित रखा फैसला

उधर, भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) की ओर से गूगल पर 136 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाने के मामले में राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। सीसीआइ ने इस साल फरवरी में ‘अविश्वासी आचरण' की शिकायतों के आधार पर गूगल पर यह जुर्माना लगाया था। गूगल पर मैट्रिमोनी डॉट कॉम और कंज्यूमर यूनिटी एंड ट्रस्ट सोसायटी ने ऑनलाइन सर्च में अनुचित कारोबारी प्रक्रियाएं अपनाने का आरोप लगाया था। सीसीआइ के आदेश के खिलाफ गूगल ने NCLT के आदेश के खिलाफ चुनौती दी थी। गूगल पर लगाया गया यह जुर्माना उसके भारतीय में संचालित विभिन्न कारोबारों से 2013, 2014 और 2015 में हुई कुल औसत आय के पांच फीसदी के बराबर है।

Related Stories