पहले ही डूब रही थी कंपनी उसपर एक गलती ने डुबाए 13 करोड़ रुपए

|

Published: 06 Jul 2018, 05:53 PM IST

एक एचआर कर्मचारी की छोटी सी टाइपिंग गलती से फोर्टिस कंपनी की सीईओ 13 करोड़ रुपए बढ़ गई है। मामला भी ऐसे समय हुआ है जब कंपनी लगातार आर्थिक संकट से जूझ रही है।

नई दिल्ली। माना जाता कि है कि जीवन में गलतियां भारी पड़ती है। लेकिन एक एचआर कर्मचारी की छोटी सी टाइपिंग गलती से फोर्टिस कंपनी की सीईओ 13 करोड़ रुपए बढ़ गई है। मामला भी ऐसे समय हुआ है जब कंपनी लगातार आर्थिक संकट से जूझ रही है। फोर्टिस कंपनी के चीफ एग्जिक्युटिव ऑफिसर भावदीप सिंह के सालाना सैलरी पैकेज में एक टाइपो के चलते 13 करोड़ रुपये अधिक जुड़ गए और उनका सैलरी पैकेज 3.91 करोड़ रुपये से बढ़कर 16.80 करोड़ रुपये हो गया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जुलाई 2015 से मार्च 2017 के दौरान भावदीप सिंह की सैलरी 4 गुना से अधिक बढ़ गई।

कैसे हुई गलती

कंपनी ने माना है कि उसके कर्मचारी की गलती की वजह से ऐसा हुआ है। कंपनी के मुताबिक भावदीप सिंह की सैलरी में इजाफे की असल वजह सालाना रिपोर्ट में हुआ टाइपिंग गलती है। दरअसल 2015 में भावदीप सिंह को 3.91 करोड़ रुपये के सालाना पैकेज पर हायर किया गया था, लेकिन कंपनी की 2015-16 और 2016-17 की रिपोर्ट के मुताबिक 2017 में उनकी सैलरी 16.80 करोड़ रुपये हो गई। यही नहीं सिंह को 7.23 करोड़ रुपये का जॉइनिंग बोनस भी मिला था, इसके अलावा 2.5 मिलियन स्टॉक ऑप्शंस भी उन्हें मिले।

दो साल में चार गुना बढ़ी सैलरी

इन दो सालों के दौरान सिंह की सैलरी जहां 4 गुना से ज्यादा बढ़ गई, वहीं फोर्टिस का घाटा 2015-16 में 73.5 करोड़ रहा और 2016-17 में बढ़कर 74.7 करोड़ रुपये हो गया। कंपनी के मुताबिक जल्दी ही आने वाली नई रिपोर्ट में बदलाव किया जाएगा। असल में उनकी सैलरी बीते दो सालों में 6 से लेकर 8 पर्सेंट तक बढ़ गई है। यह काफी हद तक देश के कारोबारी माहौल के अनुकूल ही है। आपको बता दें भवदीप सिंह के सीईओ रहते हुए फोर्टिस हेल्थकेयर को 2015-16 में 73.5 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। जबकि अगले साल यानी 2016-17 में ये घाटा बढ़ कर 74.7 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। कंपनी पर पहले से ही गड़बड़ियों की जांच चल रही है।

Related Stories